शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 00:56 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 23 रुपये 50 पैसे हुआ सस्ता, पेट्रोल और डीजल के दाम भी घटे लीबिया में आतंकी संगठन IS के चंगुल से 2 भारतीय रिहा, बाकी 2 को छुड़ाने की कोशिश जारी याकूब के जनाजे में शामिल लोगों को त्रिपुरा के गवर्नर ने बताया आतंकी उपभोक्ताओं को रुलाने लगा प्याज, खुदरा भाव 50 रुपये पहुंचा  कांग्रेस MLA उस्मान मजीद बोले, मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी टाइगर मेमन से कई बार की मुलाकात FTII छात्रों को राहुल गांधी का समर्थन, राहुल ने कहा, अपनी इच्छा छात्रों पर ना थोपे सरकार राज्यसभा में विपक्षी दलों ने किया हंगामा, कार्यवाही हुई बाधित लोकसभा में विपक्ष ने लगाए सरकार के खिलाफ नारे, भाजपा सांसद भी नहीं रहे पीछे हाईकोर्ट के आदेश पर मानसून सत्र में बैठेंगे ये चार विधायक अमेरिकी लड़की के साथ छेड़खानी करने वाला टैक्सी चालक गिरफ्तार
रायबरेली में लगेगा रेल पहिये बनाने का कारखाना
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:21-12-2012 09:03:00 PMLast Updated:21-12-2012 09:14:19 PM
Image Loading

रेलगाड़ी के लिए पहियों की बढ़ती जरूरत को पूरा करने को लेकर रेलवे ने उत्तर प्रदेश के रायबरेली में 1,000 करोड़ रुपए के निवेश से रेल पहिया फोर्जिंग कारखाना लगाने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र की राष्ट्रीय इस्पात निगम लि. (आरआईएनएल) के साथ शुक्रवार को समझौता किया।

इस कारखाने के शुरू होने से रेल पहियों के आयात पर निर्भरता कम होगी जो फिलहाल करीब 350 करोड़ रुपए सालाना है। सहमति पत्र पर दस्तखत करने के बाद रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने कहा कि 1,000 करोड़ रुपए के निवेश से लगने वाला कारखाना रायबरेली के लालगंज स्थित मौजूदा रेल डिब्बा फैक्टरी के समीप होगा।

इस मौके पर मौजूद इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ने कहा कि परियोजना न केवल रेलवे के लिए बल्कि इस्पात विनिर्माताओं के लिए फायदेमंद है। इसका उत्तर प्रदेश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान होगा।

उन्होंने कहा कि इससे 500 से 600 लोगों को रोगजार मिलेगा।
 रेलवे को सालाना 70,000 पहियों की जरूरत होती है जिसे आयात के जरिए पूरा किया जाता है। एक पहिये की लागत करीब 70,000 रुपए है। 2016-17 तक यह संख्या एक लाख तक पहुंचने का अनुमान है।

प्रस्तावित कारखाने की क्षमता 1,00,000 पहिया सालाना होगी। इस लिहाज से यह देश में रेल पहिया बनाने का सबसे बड़ा कारखाना होगा। इस्पात मंत्रालय के अधीन आने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की आरआईएनएल 27 एकड़ जमीन में कारखाना लगाएगी। जमीन रेलवे की तरफ से उपलब्ध कराई जाएगी।

दूसरा समझौता रेलवे तथा इस्पात मंत्रालय की इकाई एनएमडीसी लि के बीच हुआ। यह छत्तीसगढ़ में किरनडूल से जगदलपुर के बीच 150 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन के दोहरीकरण के लिये है। इस पर 826 करोड़ रुपए का खर्चा आने का अनुमान है।

इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ने कहा कि लाइन के दोहरीकरण से विकास का नया युग शुरू होगा। इससे राज्य के बस्तर जिले के साथ समीप के राज्यों ओडिशा तथा आंध्र प्रदेश के स्थानीय जनजातीय समुदाय के लोगों के जीवन में बदलाव लाने में भी मदद मिलेगी।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीम इंडिया के कोच बनने के इच्छुक स्टुअर्ट लॉ
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड आगामी दक्षिण अफ्रीकी दौरे से पहले टीम इंडिया के नये कोच को चुनने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है और इसी बीच पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी तथा ऑस्ट्रेलिया-ए के सहायक कोच स्टुअर्ट लॉ ने इस जिम्मेदारी भरे पद को संभालने के लिए अपनी ओर से इच्छा जाहिर की है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड