रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 01:11 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
रायबरेली में लगेगा रेल पहिये बनाने का कारखाना
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:21-12-12 09:03 PMLast Updated:21-12-12 09:14 PM
Image Loading

रेलगाड़ी के लिए पहियों की बढ़ती जरूरत को पूरा करने को लेकर रेलवे ने उत्तर प्रदेश के रायबरेली में 1,000 करोड़ रुपए के निवेश से रेल पहिया फोर्जिंग कारखाना लगाने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र की राष्ट्रीय इस्पात निगम लि. (आरआईएनएल) के साथ शुक्रवार को समझौता किया।

इस कारखाने के शुरू होने से रेल पहियों के आयात पर निर्भरता कम होगी जो फिलहाल करीब 350 करोड़ रुपए सालाना है। सहमति पत्र पर दस्तखत करने के बाद रेल मंत्री पवन कुमार बंसल ने कहा कि 1,000 करोड़ रुपए के निवेश से लगने वाला कारखाना रायबरेली के लालगंज स्थित मौजूदा रेल डिब्बा फैक्टरी के समीप होगा।

इस मौके पर मौजूद इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ने कहा कि परियोजना न केवल रेलवे के लिए बल्कि इस्पात विनिर्माताओं के लिए फायदेमंद है। इसका उत्तर प्रदेश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान होगा।

उन्होंने कहा कि इससे 500 से 600 लोगों को रोगजार मिलेगा।
 रेलवे को सालाना 70,000 पहियों की जरूरत होती है जिसे आयात के जरिए पूरा किया जाता है। एक पहिये की लागत करीब 70,000 रुपए है। 2016-17 तक यह संख्या एक लाख तक पहुंचने का अनुमान है।

प्रस्तावित कारखाने की क्षमता 1,00,000 पहिया सालाना होगी। इस लिहाज से यह देश में रेल पहिया बनाने का सबसे बड़ा कारखाना होगा। इस्पात मंत्रालय के अधीन आने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की आरआईएनएल 27 एकड़ जमीन में कारखाना लगाएगी। जमीन रेलवे की तरफ से उपलब्ध कराई जाएगी।

दूसरा समझौता रेलवे तथा इस्पात मंत्रालय की इकाई एनएमडीसी लि के बीच हुआ। यह छत्तीसगढ़ में किरनडूल से जगदलपुर के बीच 150 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन के दोहरीकरण के लिये है। इस पर 826 करोड़ रुपए का खर्चा आने का अनुमान है।

इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ने कहा कि लाइन के दोहरीकरण से विकास का नया युग शुरू होगा। इससे राज्य के बस्तर जिले के साथ समीप के राज्यों ओडिशा तथा आंध्र प्रदेश के स्थानीय जनजातीय समुदाय के लोगों के जीवन में बदलाव लाने में भी मदद मिलेगी।
 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ