शनिवार, 31 जनवरी, 2015 | 14:03 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
अमरोहा: जोया से संभल जा रही बस डब्ल्यूटीएम कालेज के पास पलटी। घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाना शुरु। अब तक तीस घायल अस्पताल पहुंचे। ट्रक को ओवरटेक करते समय हुआ हादसा।ऑटोवालों की समस्या दूर करेंगे, नए स्टैंड बनाएंगे, हर साल किराए की समीक्षा करेंगे : केजरीवालव्यापारियों को मान-सम्मान मिलेगा, व्यापार करने की आजादी मिलेगी : केजरीवाल900 हेल्थ सेंटर खोलेंगे : केजरीवालदिल्ली को कारोबार का हब बनाएंगे : केजरीवालदिल्ली में वैट का रेट सबसे कम करेंगे, जिससे महंगाई कम होगी और टैक्स चोरी भी नहीं होगी : केजरीवालदिल्ली के गांवों को बसों और मेट्रो से जोड़ेंगे: केजरीवालसरकारी अस्पतालों का प्रशासन सुधारेंगे, डॉक्टरों को सम्मान और सुरक्षा देंगे: केजरीवालपांच साल में यमुना को खूबसूरत बनाएंगे, उद्योगों का कचरा डालना बंद करवाएंगे: केजरीवालपानी के लिए दूसरे राज्यों के आगे हाथ फैलाना बंद करेंगे: केजरीवाल5 साल में हर घर में पानी की पाइप लाइन पहुचाएंगे : केजरीवाल24 घंटे बिजली देंगे, आधे दाम पर देंगे : केजरीवालधीरे-धीरे दिल्ली को सोलर एनर्जी की ओर लेकर जाएंगे : केजरीवाल
कोयला खानों को पर्यावरण मंजूरी की जांच होगी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:21-12-12 05:14 PM
Image Loading

पर्यावरण एवं वन मंत्रालय ने कोयला मंत्रालय को आश्वस्त किया है कि इस मामले की जांच करेगा कि जिन कोयला खानों को नीलामी के लिये पेश किया जाना है उन्हें पहले से ही सैद्धांतिक रूप से पर्यावरण और वन संबंधी मंजूरी दी जा सकती है अथवा नहीं।

कोयला मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने शुक्रवार को इस संबंध में यहां पर्यावरण मंत्रालय के शीर्ष अधिकारियों से मुलाकात की और नीलामी के लिए रखी जाने वाली खानों से जुड़े मामलों पर लंबी चर्चा की।

इस घटनाक्रम से जुड़े सूत्रों ने बताया बैठक के दौरान इस मामले पर चर्चा हुई कि नीलामी के लिए पेश होने वाली कोयला खानों को क्या सैद्धांतिक रूप से वन एवं पर्यावरण मंजूरी दी जा सकती है। पर्यावरण मंत्रालय ने कोयला मंत्रालय को आश्वस्त किया कि वह इस मामले की जांच करेगा।

कोयला मंत्रालय ने इससे पहले उम्मीद जाहिर की थी कि निजी कोयला खानों की नीलामी के संबंध में पर्यावरण और बिजली जैसे मंत्रालयों के साथ मतभेद जल्दी दूर हो जाएंगे।

कोयला सचिव एस के श्रीवास्तव ने कहा था कोयला खानों को सैद्धांतिक मंजूरी से जुड़े जिन मामलों में सहमति नहीं बनी है उनमें न्यूनतम मूल्य और बिजली जैसे क्षेत्रों को रियायती मूल्य पर खानें देने का मामला शामिल है।

 

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड