शनिवार, 31 जनवरी, 2015 | 06:15 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
फतुहा में बिजली की तार की चपेट में ट्रॉली आई, दो की मौतअमिता को पीजीआई लखनऊ भेजा गया था महिला के खून का नमूना, जांच में स्वाइन फ्लू की पुष्टिबरेली में स्वाइन फ्लू से पहली मौत की पुष्टि, राममूर्ति मेडिकल कालेज में हुई थी 24 जनवरी को सीबीगंज की अमिता उपाध्याय की मौतपाकिस्तान के शिकारपुर में ब्लास्ट, 20 लोगों की मौतयूपी: लखीमपुर खीरी के मैगलंगज में युवक की हत्या, ट्रैक्टर ट्रॉली पर फेंक दिया शव, गला दबाकर हत्या का आरोपबरेली : इंडियन वैटेनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईवीआरआई) और सेंट्रल एवियन रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीएआरआई) में रेबीज का कहर, आवारा कुत्तों के काटने से कई वैज्ञानिक रेबीज की चपेट में, मारे गए कुत्तों के पोस्टमार्टम में रेबीज की पुष्टि
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहन को आगे आएं उद्योग: सरकार
बेंगलूर, एजेंसी First Published:06-12-12 05:21 PM

केंद्र सरकार 12वीं पंचवर्षीय योजना में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहन देने के लिए देश की जीडीपी के एक प्रतिशत के बराबर का योगदान सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की कंपनियों से चाहती है जिसके लिए वह उद्योग से बातचीत कर रही है।

योजना आयोग के सदस्य (विज्ञान) के कस्तूरीरंगन ने यहां बेंगलूर नैनो सम्मेलन एवं प्रदर्शनी के 5वें संस्करण को संबोधित करते हुए कहा कि इस समय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पर खर्च जीडीपी का 0.9 प्रतिशत है।

उन्होंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के हवाले से कहा कि वह इसे बढ़ाकर दो प्रतिशत पर ले जाना चाहेंगे, लेकिन कुछ शर्तों के साथ। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधन संगठन (इसरो) के पूर्व चेयरमैन कस्तूरीरंगन ने कहा कि सरकार इसे एक प्रतिशत करने की इच्छुक है बशर्ते अतिरिक्त एक प्रतिशत निजी और सार्वजनिक क्षेत्र की ओर से अनुसंधान पर खर्च के रूप में योगदान किया जाए।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड