सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 04:47 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहन को आगे आएं उद्योग: सरकार
बेंगलूर, एजेंसी First Published:06-12-12 05:21 PM

केंद्र सरकार 12वीं पंचवर्षीय योजना में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहन देने के लिए देश की जीडीपी के एक प्रतिशत के बराबर का योगदान सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की कंपनियों से चाहती है जिसके लिए वह उद्योग से बातचीत कर रही है।

योजना आयोग के सदस्य (विज्ञान) के कस्तूरीरंगन ने यहां बेंगलूर नैनो सम्मेलन एवं प्रदर्शनी के 5वें संस्करण को संबोधित करते हुए कहा कि इस समय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पर खर्च जीडीपी का 0.9 प्रतिशत है।

उन्होंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के हवाले से कहा कि वह इसे बढ़ाकर दो प्रतिशत पर ले जाना चाहेंगे, लेकिन कुछ शर्तों के साथ। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधन संगठन (इसरो) के पूर्व चेयरमैन कस्तूरीरंगन ने कहा कि सरकार इसे एक प्रतिशत करने की इच्छुक है बशर्ते अतिरिक्त एक प्रतिशत निजी और सार्वजनिक क्षेत्र की ओर से अनुसंधान पर खर्च के रूप में योगदान किया जाए।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड