शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 18:47 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मथुरा में भाजपा युवा मोर्चा का पुलिस पर पथराव, दर्जनों जख्मी मुख्यमंत्री कार्यालय में बदलाव करना चाहते हैं फड़नवीस  चीन ने पूरा किया चांद से वापसी का पहला मिशन  आज चार राज्य मना रहे हैं स्थापना दिवस  जम्मू-कश्मीर में बदले जा सकते हैं मतदान केंद्र 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' का वीडियो यूट्यूब पर हिट दिग्विजय सिंह की सलाह, कांग्रेस की कमान अपने हाथ में लें राहुल गांधी 'दिल्ली को फिर केंद्र शासित बनाने की फिराक में भाजपा' जनता सब देख रही है, बीजेपी हल्के में न लेः उद्धव ठाकरे वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहन को आगे आएं उद्योग: सरकार
बेंगलूर, एजेंसी First Published:06-12-12 05:21 PM

केंद्र सरकार 12वीं पंचवर्षीय योजना में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहन देने के लिए देश की जीडीपी के एक प्रतिशत के बराबर का योगदान सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की कंपनियों से चाहती है जिसके लिए वह उद्योग से बातचीत कर रही है।

योजना आयोग के सदस्य (विज्ञान) के कस्तूरीरंगन ने यहां बेंगलूर नैनो सम्मेलन एवं प्रदर्शनी के 5वें संस्करण को संबोधित करते हुए कहा कि इस समय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी पर खर्च जीडीपी का 0.9 प्रतिशत है।

उन्होंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के हवाले से कहा कि वह इसे बढ़ाकर दो प्रतिशत पर ले जाना चाहेंगे, लेकिन कुछ शर्तों के साथ। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधन संगठन (इसरो) के पूर्व चेयरमैन कस्तूरीरंगन ने कहा कि सरकार इसे एक प्रतिशत करने की इच्छुक है बशर्ते अतिरिक्त एक प्रतिशत निजी और सार्वजनिक क्षेत्र की ओर से अनुसंधान पर खर्च के रूप में योगदान किया जाए।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ