बुधवार, 27 मई, 2015 | 17:17 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आईसीसी टेस्ट रैंकिंग: कोहली दसवें स्थान पर बरकरार देश की आत्मा के खिलाफ जा रही है केंद्र सरकार: राहुल बिना बॉस वाली इस कंपनी के बारे में जानते हैं आप? मोदी सरकार पर मनमोहन सिंह का निशाना, कहा जनता का ध्यान भटका रही है केंद्र सरकार राजनाथ, सोनिया समेत 298 सांसदों ने नहीं खर्च की सांसद निधि यूपी: टल्ली होकर पटरी पर गिरे, रोकनी पड़ी ट्रेन मुस्लिम होने के कारण मुझसे खाली कराया गया घर: मिस्बाह कादरी 'समलैंगिकों के अड्डे बन गए हैं मदरसे, इन्हें बंद कर देना चाहिये'  39000 फुट की ऊंचाई पर गुल हुई विमान के इंजन की बिजली EXCLUSIVE: पूरे देश में कारों पर अब नहीं लगेगा टोल...!
प्रमुख फसलों का उत्पादन 2.8 प्रतिशत घटने का अनुमान
मुंबई, एजेंसी First Published:02-12-12 06:13 PM
Image Loading

देश में 2012-13 में प्रमुख फसलों के उत्पादन में 2.8 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है। आर्थिक शोध संस्थान सेंटर फॉर मानिटरिंग इंडियन इकनामी (सीएमआईई) ने कहा है कि बुवाई क्षेत्र में कमी से प्रमुख फसलों का उत्पादन घट सकता है।

सीएमआईई की मासिक रिपोर्ट में कहा गया है कि 2012-13 में प्रमुख फसलों का उत्पादन 2.8 प्रतिशत घटने का अनुमान है। पहले सीएमआईई ने उत्पादन में 2.3 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान लगाया था।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अक्टूबर में खरीफ बुवाई समाप्त होने के साथ बुवाई क्षेत्रफल उम्मीद से कम रहा है। 2012-13 में धान उत्पादन 3.4 प्रतिशत घटने का अनुमान है। 2 नवंबर तक इसका बुवाई क्षेत्र 4.1 प्रतिशत घटकर 375 लाख हेक्टेयर रह गया है।

सीएमआईई ने कहा है कि चूंकि बुवाई ने रफ्तार नहीं पकड़ी ऐसे में धान उत्पादन घटकर 10.08 करोड़ टन रहने का अनुमान है। इसी तरह गेहूं का उत्पादन 0.1 प्रतिशत घटकर 9.38 करोड़ टन रहने का अनुमान रिपोर्ट में लगाया गया है।

इसमें कहा गया है कि 2012-13 में मोटे अनाज का उत्पादन 9.8 प्रतिशत घटकर 3.76 करोड़ टन रहेगा। इसमें सबसे ज्यादा 28.4 फीसदी की गिरावट बाजरा के उत्पादन में आएगी। वहीं दलहन उत्पादन 1.5 प्रतिशत घटकर 1.69 करोड़ टन रहेगा।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।