बुधवार, 01 जुलाई, 2015 | 02:52 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    'मेंढक' को है आपकी दुआओं की जरूरत, कोमा में है आपका चहेता किरदार सुनंदा पुष्कर केस में शशि थरूर का लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराने की तैयारी में जुटी पुलिस शर्मनाक: सीरिया में आईएस ने दो महिलाओं का सिर कलम किया उपचुनाव में रिकॉर्ड डेढ लाख वोटों के अंतर से जीतीं जयलिलता, सभी विरोधी उम्मीदवारों की जमानत जब्त धौलपुर महल विवाद: कांग्रेस ने राजे के खिलाफ नए सबूत पेश किए, भाजपा बोली, छवि बिगाड़ने की साजिश ट्विटर पर जॉन ने खोली 'वेलकम बैक' की रिलीज़ डेट, आप भी जानिए बांग्लादेश में उड़ा टीम इंडिया का मजाक, इन क्रिकेटरों को दिखाया आधा गंजा गांगुली ने टीम इंडिया में हरभजन की वापसी का किया स्वागत रोहित समय के पाबंद हैं, उनके साथ काम करना मुश्किल: शाहरूख खान तेंदुलकर ने अजिंक्य रहाणे को दीं शुभकामनाएं
अक्टूबर में राजकोषीय घाटा बजटीय अनुमान का 71.6 प्रतिशत रहा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:30-11-12 08:42 PM

राजकोषीय घाटा वित्त वर्ष 2012-13 के पहले सात महीने में बजटीय अनुमान का 71.6 प्रतिशत रहा। यह पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 74.4 प्रतिशत के मुकाबले थोड़ा बेहतर है।

राजकोषीय घाटे की स्थिति में हल्का सुधार मुख्य रूप से व्यय मार्चे पर की कटौती का नतीजा है। चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-अक्टूबर अवधि के दौरान राजकोषीय घाटा (व्यय एवं राजस्व वसूली में अंतर) निरपेक्ष रूप से 3.67 लाख करोड़ रुपए रहा।

इस बीच सरकार ने चालू वित्त वर्ष के लिये राजकोषीय घाटे का लक्ष्य बढ़ाकर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 5.3 प्रतिशत कर दिया है। बजट में इसके 5.1 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया था। इससे पूर्व वित्त वर्ष 2011-12 में राजकोषीय घाटा 5.8 प्रतिशत था।

ईंधन, उर्वरक तथा खाद्य सब्सिडी बढ़ने के कारण राजकोषीय घाटा बढ़ा है। लोकसभा में प्रश्न के उत्तर में वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने शुक्रवार को कहा कि सरकार ने चालू वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटे की स्थिति में सुधार के लिए व्यय को युक्तिसंगत बनाने तथा उपलब्ध संसाधनों का कुशलतम उपयोग के लिये कदम उठाए हैं।  

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड