गुरुवार, 29 जनवरी, 2015 | 15:49 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पटना विश्वविद्यालय के सिनेट की बैठक के दौरान विरोध कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज, छपरा संघ के चुनाव की मांग को लेकर विरोधमुरादाबाद: वकीलों ने दिया सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन। आज का आंदोलन समाप्त। कल रेल रोकेंगे। वकीलों की सीओ से नोंकझोंक भी हुई।लोकायुक्त की रिपोर्ट के बाद यूपी के दो विधायक बर्खास्तसंभल के मोहल्ला ठेर में रूम हीटर से दम घुटने की वजह से एक व्यापारी की मौत हो गई। कमरे में व्यापारी के साथ सो रही उसकी पत्नी व एक साल के मासूम की हालत भी गंभीर।अमरोहा के मेहंदीपुर गांव में नकली दूध बनाने की फैक्टी पकड़ी. पचास लीटर दूध व सामान बरामद. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की कार्रवाई.बरेली के फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में प्रॉपर्टी डीलर के घर लाखों का डाकाआगरा : हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों में आपसी टकराव, संघर्ष समिति और ग्रेटर बार के पदाधिकारी भिड़े, बड़ी संख्या में फोर्स तैनात, पुलिस को फटकारनी पड़ीं लाठियांरामपुर के लालपुर में ट्रैक्टर ने बालक को रौंदा, मौत। हादसे के बाद हंगामा।
ईपीएफओ जनवरी में तय कर सकता है पीएफ ब्याज दर
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:20-12-12 04:42 PM

सेवानिवृत्ति कोष के संचालक ईपीएफओ में निर्णय करने वाला शीर्ष निकाय केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) 2012-13 के लिए पीएफ जमा पर ब्याज दर पर अपनी अगली बैठक में निर्णय कर सकता है। यह बैठक 15 जनवरी को प्रस्तावित है।

एक सूत्र ने कहा कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के न्यासी 15 जनवरी को होने वाली बैठक में पीएफ जमाओं पर ब्याज दर तय करने के प्रस्ताव पर चर्चा कर सकते हैं।

ईपीएफओ ने एक नोटिस भी जारी किया जिसमें कहा गया है कि केंद्रीय न्यासी बोर्ड की 201वीं बैठक 15 जनवरी, 2013 को मुंबई में होनी है।

मौजूदा व्यवस्था के तहत, श्रम मंत्री की अध्यक्षता वाले केंद्रीय न्यासी बोर्ड द्वारा ब्याज दर पर निर्णय किए जाने के बाद इसे सहमति के लिए वित्त मंत्रालय के पास भेजा जाता है।

सूत्रों ने कहा कि ईपीएफओ के आरंभिक अनुमानों से संकेत मिलता है कि अगर वह अपने 5 करोड़ से अधिक अंशधारकों को 8.6 प्रतिशत ब्याज का भुगतान करती है तो उसके पास ना ही आधिक्य बचेगा, और ना ही उसे घाटा होगा।

हालांकि, यूनियनें ब्याज दर 8.8 प्रतिशत के समान या इससे अधिक रखे जाने की मांग कर रही हैं। हिंद मजदूर सभा के सचिव एड़ी़ नागपाल जो ईपीएफओ के न्यासी भी हैं, के अनुसार हम चालू वित्त वर्ष के लिए बैठक में 9.5 प्रतिशत ब्याज दर की मांग करेंगे। यह मौजूदा बैंक जमाओं की दरों के मुताबिक होना चाहिए जो अभी नौ से 10 प्रतिशत के दायरे में हैं।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड