गुरुवार, 02 जुलाई, 2015 | 01:41 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अब मोबाइल फोन से डायल हो सकेगा लैंडलाइन नंबर गोद से गिरी बच्ची, बचाने के लिए मां भी चलती ट्रेन से कूदी बलात्कार मामलों में कोई समझौता नहीं, औरत का शरीर उसके लिए मंदिर के समान होता है: सुप्रीम कोर्ट अब यूपी पुलिस 'चुड़ैल' को ढूंढेगी, जानिए क्या है पूरा मामला  खुलासा: एक रुपया तैयार करने का खर्च एक रुपये 14 पैसे दार्जिलिंग: भूस्‍खलन के कारण 38 लोगों की मौत, पीएम ने जताया शोक, 2-2 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान यूनान ने किया डिफॉल्ट, नहीं चुकाया अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष का कर्ज विकी‍पीडिया पर नेहरू को मुस्लिम बताये जाने पर भड़की कांग्रेस, पूछा अब क्या कार्रवाई करेगी मोदी सरकार PHOTO: जब मंत्रीजी ने पकड़ी लेडी डॉक्टर की कॉलर और बोले... ललित मोदी के ट्वीट पर बवाल, भाजपा नहीं करेगी वरुण गांधी का बचाव
ईपीएफओ जनवरी में तय कर सकता है पीएफ ब्याज दर
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:20-12-12 04:42 PM

सेवानिवृत्ति कोष के संचालक ईपीएफओ में निर्णय करने वाला शीर्ष निकाय केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) 2012-13 के लिए पीएफ जमा पर ब्याज दर पर अपनी अगली बैठक में निर्णय कर सकता है। यह बैठक 15 जनवरी को प्रस्तावित है।

एक सूत्र ने कहा कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के न्यासी 15 जनवरी को होने वाली बैठक में पीएफ जमाओं पर ब्याज दर तय करने के प्रस्ताव पर चर्चा कर सकते हैं।

ईपीएफओ ने एक नोटिस भी जारी किया जिसमें कहा गया है कि केंद्रीय न्यासी बोर्ड की 201वीं बैठक 15 जनवरी, 2013 को मुंबई में होनी है।

मौजूदा व्यवस्था के तहत, श्रम मंत्री की अध्यक्षता वाले केंद्रीय न्यासी बोर्ड द्वारा ब्याज दर पर निर्णय किए जाने के बाद इसे सहमति के लिए वित्त मंत्रालय के पास भेजा जाता है।

सूत्रों ने कहा कि ईपीएफओ के आरंभिक अनुमानों से संकेत मिलता है कि अगर वह अपने 5 करोड़ से अधिक अंशधारकों को 8.6 प्रतिशत ब्याज का भुगतान करती है तो उसके पास ना ही आधिक्य बचेगा, और ना ही उसे घाटा होगा।

हालांकि, यूनियनें ब्याज दर 8.8 प्रतिशत के समान या इससे अधिक रखे जाने की मांग कर रही हैं। हिंद मजदूर सभा के सचिव एड़ी़ नागपाल जो ईपीएफओ के न्यासी भी हैं, के अनुसार हम चालू वित्त वर्ष के लिए बैठक में 9.5 प्रतिशत ब्याज दर की मांग करेंगे। यह मौजूदा बैंक जमाओं की दरों के मुताबिक होना चाहिए जो अभी नौ से 10 प्रतिशत के दायरे में हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड