शनिवार, 20 दिसम्बर, 2014 | 18:23 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
आरएसएस के सह सर कार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल के पिता का नोएडा में निधनहिन्दुस्तान: जामताडा में 71 प्रतिशत और नाला विधानसभा क्षेञ में 74 प्रतिशत मतदान की सूचनाजम्मू कश्मीर में 3 बजे तक 55% मतदानइंडिया टुडे और सिसेरो का एग्जिट पोल: झारखंड में बीजेपी को बहुमत के आसारएग्जिट पोल: झारखंड में पहली बार बहुमत की सरकार के आसारएग्जिट पोल: झारखंड में कांग्रेस को 16 % प्रतिशत वोट मिलने का अनुमानएग्जिट पोल: झारखंड में जेएमएम को 20 % प्रतिशत वोट मिलने का अनुमानएग्जिट पोल: झारखंड में बीजेपी को 36% प्रतिशत वोट मिलने का अनुमानएग्जिट पोल: कांग्रेस को 7-11, बीजेपी 41-49, जेएमएम 15-19, अन्य 8-12 सीटों पर जीत मिलने की संभावनाएग्जिट पोल: झारखंड में पहली बार बहुमत की सरकार बनने के आसारअगर आपको धर्मांतरण से एतराज है तो धर्मांतरण के खिलाफ संसद में कानून लाइए: मोहन भागवतझारखंड विधानसभा के पांचवें और आखिरी चरण के मतदान का समय खत्म हो गया है।जम्मू: कठुआ जिले में सीमवर्ती निर्वाचन क्षेत्र हीरानगर में महिला मतदाताओं की संख्या, पुरुष मतदाताओं से अधिक रही। कठुआ जिले के दूर-दराज के बानी और बिलावर निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान प्रक्रिया की शुरुआत धीमी रही।जम्मू: राजौरी जिले की राजौरी, दारहल, कालकोट और नौशेरा में भी सुबह के समय मतदान प्रक्रिया सुस्त रही।
वालमार्ट ने 80 से अधिक मुद्दों पर की लॉबिंग
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:12-12-12 03:31 PM

खुदरा क्षेत्र की दिग्गज अमेरिकी कंपनी वालमार्ट ने पिछले पांच साल में नौ अलग अलग श्रेणियों में करीब 80 मुद्दों पर अमेरिकी सांसदों का सहयोग जुटाने के लिए लॉबिंग की है। कंपनी ने अमेरिकी संसद के समक्ष पेश तिमाही ब्योरे में इसका खुलासा किया है।

वालमार्ट द्वारा इस बारे में नियमों के तहत प्रस्तुत तिमाही रपट से में उसने बताया है कि उसकी ओर से घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर के विभिन्न मुद्दों पर लॉबिंग की गयी। इनमें सीटी, दिग्सूचक यंत्र और क्रिसमस ट्री लैम्प पर शुल्क को अल्पकालिक एस से निलंबित करने से लेकर भूखमरी पर परिचर्चा, पोषण नीति, संगठित खुदरा अपराध कानून, चीन द्वारा विनिमय दर में हेरफेर जैसे मुद्दे शामिल हैं।

तिमाही रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी द्वारा लॉबिंग के लिए चुने गए मुद्दों में खाद्य उद्योग, कराधान, वित्तीय संस्थानों, स्वास्थ्य, श्रम, दवा, परिवहन, उपभोक्ता, सुरक्षा, उत्पादों, ऊर्जा और परमाणु से जुड़े मुद्दें शामिल हैं।

कंपनी प्रवक्ता ने भारत में एफडीआई समेत विभिन्न मुद्दों पर किए गए खर्च का अलग-अलग ब्योरा देने से इंकार किया।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड