शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 10:05 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता फड़णवीस को मोदी ने चढ़ाईं सत्ता की सीढ़ियां
2013 में धीमी रह सकती है मुद्रास्फीति
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:24-12-12 05:20 PM
Image Loading

खाद्य वस्तुओं की बढ़ती कीमतों को काबू में करने के सरकार और रिजर्व बैंक के लाख प्रयासों के बावजूद इस पूरे साल महंगाई ने  आम लोगों को परेशान रखा। हालांकि नए साल में मुद्रास्फीति कुछ नरम पड़ सकती है।

पिछले साल 10 प्रतिशत से ऊपर पहुंचने वाली थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति 2012 के दौरान सात प्रतिशत से उपर बनी रही। रिजर्व बैंक की सख्त मौद्रिक नीति के प्रभाव से यह थोड़ी काबू में रही।

थोक मूल्य सूचकांक आधारित खुदरा मुद्रास्फीति नवंबर में दहाई अंक के करीब पहुंच गई। इस दौरान यह 9.90 प्रतिशत रही। रिजर्व बैंक ने मुद्रास्फीति में तेजी थामने के लिए मार्च, 2010 से अक्टूबर, 2011 के बीच नीतिगत दरों में 13 दफा बढ़ोतरी की थी।

इसके बाद मुद्रास्फीति में कुछ नरमी के संकेत मिलने के बाद रिजर्व बैंक ने अप्रैल, 2012 में नीतिगत दरों में कुछ कमी की। सरकार और उद्योग के भारी दबाव के बावजूद रिजर्व बैंक ने नीतिगत दरें अपरिवर्तित बनाए रखी हैं।

30 अक्टूबर को अपनी दूसरी मौद्रिक नीति समीक्षा के कुछ घंटों बाद वित्त मंत्री पी़ चिदंबरम को कहना पड़ा कि आर्थिक वृद्धि दर मुद्रास्फीति जितनी चुनौतीपूर्ण है। अगर सरकार को आर्थिक वृद्धि की चुनौतियों का सामना करने को अकेले चलना पड़ता है तो हम अकेले चलेंगे।

आर्थिक वृद्धि में गिरावट नीति निर्माताओं के लिए एक बड़ी चिंता बनी हुई है और वे निवेश को प्रोत्साहित करने और वद्धि दर में तेजी लाने के लिए हर प्रयास कर रहे हैं।

चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में आर्थिक वृद्धि दर घटकर 5.4 प्रतिशत पर आ गई जो बीते वित्त वर्ष की इसी अवधि में 7.3 प्रतिशत थी। अनुमान है कि 2012-13 के दौरान यह करीब 5.7 से 5.9 प्रतिशत के बीच रहेगी।

रिजर्व बैंक ने हालांकि संकेत दिए हैं कि आगे मुद्रास्फीति में नरमी आने के आसार को देखते हुए वह जनवरी में तीसरी तिमाही की मौद्रिक नीति समीक्षा में दरों में कटौती कर सकता है।

मुद्रास्फीति में कमी की मुख्य वजह विनिर्मित उत्पादों, प्राथमिक वस्तुओं और बिजली की कीमतों में गिरावट हो सकती है। हालांकि, कच्चे तेल, गैरखाद्य वस्तुओं, मोटे अनाज, प्रोटीनयुक्त खाद्य, खाद्य तेल, पेय और तंबाकू उत्पादों की मुद्रास्फीति में तेजी आई है।

 
 
 
टिप्पणियाँ