मंगलवार, 30 जून, 2015 | 22:18 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    'मेंढक' को है आपकी दुआओं की जरूरत, कोमा में है आपका चहेता किरदार सुनंदा पुष्कर केस में शशि थरूर का लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराने की तैयारी में जुटी पुलिस शर्मनाक: सीरिया में आईएस ने दो महिलाओं का सिर कलम किया उपचुनाव में रिकॉर्ड डेढ लाख वोटों के अंतर से जीतीं जयलिलता, सभी विरोधी उम्मीदवारों की जमानत जब्त धौलपुर महल विवाद: कांग्रेस ने राजे के खिलाफ नए सबूत पेश किए, भाजपा बोली, छवि बिगाड़ने की साजिश ट्विटर पर जॉन ने खोली 'वेलकम बैक' की रिलीज़ डेट, आप भी जानिए बांग्लादेश में उड़ा टीम इंडिया का मजाक, इन क्रिकेटरों को दिखाया आधा गंजा गांगुली ने टीम इंडिया में हरभजन की वापसी का किया स्वागत रोहित समय के पाबंद हैं, उनके साथ काम करना मुश्किल: शाहरूख खान तेंदुलकर ने अजिंक्य रहाणे को दीं शुभकामनाएं
कॉरपोरेट बांड बाजार महत्वपूर्ण: गोकर्ण
मुंबई, एजेंसी First Published:22-12-12 05:25 PM
Image Loading

रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर सुबीर गोकर्ण ने शनिवार को कहा कि ढांचागत परियोजनाओं के वित्त पोषण के लिए एक जबरदस्त कॉरपोरेट बांड  बाजार की जरूरत है।

यहां बीएसई द्वारा बांड बाजार पर आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए गोकर्ण ने कहा कि एक मजबूत कॉरपोरेट बांड बाजार को विकसित करने को लेकर यह  बहस महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने अगले पांच साल में ढांचागत क्षेत्र में 1,000 अरब डॉलर का निवेश करने का लक्ष्य रखा है और यह भी हासिल किया जा सकेगा जब एक मजबूत कॉरपोरेट बांड बाजार का विकास हो।

गोकर्ण ने कहा कि विदेशी पूंजी ढांचागत क्षेत्र में वित्त पोषण में एक अहम भूमिका निभाने जा रही है, इसलिए इस पूंजी को सुविधा प्रदान करने की कोई दरकार नहीं है।

डिप्टी गवर्नर ने इस ओर भी संकेत किया कि मलेशिया और थाइलैंड जैसी पूर्वी एशियाई अर्थव्यवस्थाओं ने प्रभावी तरीके से एक जबरदस्त बांड बाजार विकसित किया है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड