शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 13:48 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आम आदमी की उम्मीदों को पूरा करे सरकार: शिवसेना वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत केंद्र सरकार के सचिवों से आज चाय पर चर्चा करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा आज से शुरू करेगी विशेष सदस्यता अभियान आयोग कर सकता है देह व्यापार को कानूनी बनाने की सिफारिश भाजपा की अपनी पहली सरकार के समारोह में दर्शक रही शिवसेना बेटी ने फडणवीस से कहा, ऑल द बेस्ट बाबा झारखंड में हेमंत सरकार से समर्थन वापसी की तैयारी में कांग्रेस अब एटीएम से महीने में पांच लेन-देन के बाद लगेगा शुल्क  पेट्रोल 2.41 रुपये, डीजल 2.25 रुपये सस्ता
सीआरआर में कटौती संभव: रिपोर्ट
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:10-12-12 05:21 PM

भारतीय रिजर्व बैंक की 18 दिसंबर को होने वाली मौद्रिक नीति की मध्य तिमाही समीक्षा में नीतिगत दरों में कटौती की संभावना नहीं है। हालांकि, आर्थिक वृद्धि को प्रोत्साहन देने के लिए केंद्रीय बैंक नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) में 0.25 प्रतिशत कटौती कर सकता है।

बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच की अनुसंधान रपट में कहा गया है कि केंद्रीय बैंक मध्य तिमाही समीक्षा में सीआरआर में चौथाई फीसदी कटौती कर सकता है, वहीं ब्याज दरों में कमी जनवरी से महंगाई के नीचे आने के बाद हो सकती है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि महंगाई के नीचे आने के बाद हमें उम्मीद है कि केंद्रीय बैंक जनवरी से दरों में कटौती शुरू करेगा और जुलाई तक इनमें 0.75 प्रतिशत तक की कटौती होगी। हालांकि, नीतिगत दरों में कटौती से ऋण उस समय तक सस्ता नहीं होगा, जब तक कि तरलता की स्थिति में सुधार नहीं होता है।

पिछले तीन माह के दौरान रिजर्व बैंक ने सीआरआर में आधा फीसदी कटौती कर इसे 4.25 प्रतिशत पर ला दिया। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ब्रिक देशों में भारत की एकमात्र देश है जहां ब्याज दरें 2008 के उच्च स्तर पर हैं। 2008 के वैश्विक आर्थिक संकट से पहले भारत की अर्थव्यवस्था 8 से 9 फीसदी की दर से बढ़ रही थी। 2011-12 में यह घटकर नौ साल के निचले स्तर 6.5 प्रतिशत पर आ गई।

 
 
 
टिप्पणियाँ