गुरुवार, 27 नवम्बर, 2014 | 13:35 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
बरेली: पलिया में डनलप पलटा, पांच बच्चों की मौतचंदनचौकी से मेला देखकर वापस लौट रहे थे ग्रामीणरास्ते में पड़ने वाले नाले पर पलट गया डनलपपरिजनों में कोहराम, मौके पर पहुंचे अधिकारीमरने वाले सभी हैं एक ही गांव के रहने वाले
रंगराजन समिति ने गैस मूल्य निर्धारण का फार्मूला सुझाया
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:24-12-12 08:18 PMLast Updated:24-12-12 11:42 PM
Image Loading

रंगराजन समिति ने प्राकृतिक गैस के मूल्य निर्धारण के बारे में संभवत: एक जटिल मूल्य फार्मूला सुझाया है जिससे प्राकृतिक गैस का भाव 8 डालर प्रति इकाई (एमएमबीटीयू) पर पहुंच जाएंगे। यह दर मौजूदा दर की करीब दोगुना है।

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि कि क्या रंगराजन समिति के इस फार्मूले के लागू होने के बाद मौजूदा तेल एवं गैस परियोजनाओं के अनुबंधों में मूल्य निर्धारण व्यवस्था समाप्त हो जाएगी। रंगराजन के नेतृत्ववाली छह सदस्यीय समिति ने अपनी रिपोर्ट प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को 20 दिसंबर को सौंपी है। समझा जाता है कि समिति ने उत्तरी अमेरिका, यूरोप तथा जापानी बाजारों के अलावा आयातित तरलीकत प्राकृतिक गैस के भारांकित औसत के आधार पर घरेलू गैस का मूल्य तय करने का सुझाव दिया है।

सूत्रों ने बताया कि समिति गैस मूल्य को पांच साल में नियंत्रण मुक्त करने का सुझाव दिया है। बीच की अवधि के लिए उसने विदेशी बाजारों के तुलनात्मक औसत मूल्य के आधार पर दाम तय करने का जटिन फार्मूला सुझाया है।

इस फार्मूले के हिसाब से गैस का दाम 8 डॉलर से कुछ अधिक प्रति एमएमबीटीयू पर पहुंच जाएगा। फिलहाल देश में उत्पादित अधिकांश गैस का दाम 4.2 डॉलर प्रति इकाई है।

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (पीएमईएसी) के चेयरमैन सी रंगराजन की अगुवाई वाली समिति को भविष्य के तेल एवं गैस उत्खनन तथा उत्पाद के अनुबंध का डिजाइन तथा घरेलू स्तर पर उत्पादित गैस के दाम तय करने का फार्मूला सुझाने का काम दिया गया था।

सूत्रों ने कहा कि अभी यह तय नहीं है कि समिति के सुझाव के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी कंपनियों द्वारा किए गए उत्पादन भागीदारी करार (पीएससी) में तय मूल्य में बदलाव आएगा या नहीं।

 

 
 
 
टिप्पणियाँ