शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 09:01 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ISIS के चंगुल से छुड़ाए गए दो भारतीय, दो को आजाद कराने की कोशिश जारी EXCLUSIVE: देश में सबसे ज्यादा लापता हो रहे हैं यूपी के बच्चे 'हिंदू आतंकवाद' शब्द ने आतंक के खिलाफ जंग कमजोर की: राजनाथ चूहे के कारण बीच रास्ते से लौटा 200 यात्रियों वाला एयर इंडिया का विमान भारत-बांग्लादेश के बीच गांवों की अदला-बदली शुरू, नवंबर से होगी लोगों की अदला-बदली  बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 23 रुपये 50 पैसे हुआ सस्ता, पेट्रोल और डीजल के दाम भी घटे लीबिया में आतंकी संगठन IS के चंगुल से 2 भारतीय रिहा, बाकी 2 को छुड़ाने की कोशिश जारी याकूब के जनाजे में शामिल लोगों को त्रिपुरा के गवर्नर ने बताया आतंकी उपभोक्ताओं को रुलाने लगा प्याज, खुदरा भाव 50 रुपये पहुंचा  कांग्रेस MLA उस्मान मजीद बोले, मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी टाइगर मेमन से कई बार की मुलाकात
रंगराजन समिति ने गैस मूल्य निर्धारण का फार्मूला सुझाया
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:24-12-2012 08:18:01 PMLast Updated:24-12-2012 11:42:32 PM
Image Loading

रंगराजन समिति ने प्राकृतिक गैस के मूल्य निर्धारण के बारे में संभवत: एक जटिल मूल्य फार्मूला सुझाया है जिससे प्राकृतिक गैस का भाव 8 डालर प्रति इकाई (एमएमबीटीयू) पर पहुंच जाएंगे। यह दर मौजूदा दर की करीब दोगुना है।

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि कि क्या रंगराजन समिति के इस फार्मूले के लागू होने के बाद मौजूदा तेल एवं गैस परियोजनाओं के अनुबंधों में मूल्य निर्धारण व्यवस्था समाप्त हो जाएगी। रंगराजन के नेतृत्ववाली छह सदस्यीय समिति ने अपनी रिपोर्ट प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को 20 दिसंबर को सौंपी है। समझा जाता है कि समिति ने उत्तरी अमेरिका, यूरोप तथा जापानी बाजारों के अलावा आयातित तरलीकत प्राकृतिक गैस के भारांकित औसत के आधार पर घरेलू गैस का मूल्य तय करने का सुझाव दिया है।

सूत्रों ने बताया कि समिति गैस मूल्य को पांच साल में नियंत्रण मुक्त करने का सुझाव दिया है। बीच की अवधि के लिए उसने विदेशी बाजारों के तुलनात्मक औसत मूल्य के आधार पर दाम तय करने का जटिन फार्मूला सुझाया है।

इस फार्मूले के हिसाब से गैस का दाम 8 डॉलर से कुछ अधिक प्रति एमएमबीटीयू पर पहुंच जाएगा। फिलहाल देश में उत्पादित अधिकांश गैस का दाम 4.2 डॉलर प्रति इकाई है।

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (पीएमईएसी) के चेयरमैन सी रंगराजन की अगुवाई वाली समिति को भविष्य के तेल एवं गैस उत्खनन तथा उत्पाद के अनुबंध का डिजाइन तथा घरेलू स्तर पर उत्पादित गैस के दाम तय करने का फार्मूला सुझाने का काम दिया गया था।

सूत्रों ने कहा कि अभी यह तय नहीं है कि समिति के सुझाव के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी कंपनियों द्वारा किए गए उत्पादन भागीदारी करार (पीएससी) में तय मूल्य में बदलाव आएगा या नहीं।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीम इंडिया के कोच बनने के इच्छुक स्टुअर्ट लॉ
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड आगामी दक्षिण अफ्रीकी दौरे से पहले टीम इंडिया के नये कोच को चुनने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है और इसी बीच पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी तथा ऑस्ट्रेलिया-ए के सहायक कोच स्टुअर्ट लॉ ने इस जिम्मेदारी भरे पद को संभालने के लिए अपनी ओर से इच्छा जाहिर की है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड