सोमवार, 24 नवम्बर, 2014 | 17:44 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    हितों के टकराव को लेकर श्रीनिवासन जवाबदेह :सुप्रीम कोर्ट जम्मू-कश्मीर चुनाव : पहले चरण में कल होगा मतदान  पार्टियों ने वोटरों को लुभाने के लिए किया रेडियो का इस्तेमाल सांसद बनने के बाद छोड़ दिया अभिनय : ईरानी  सरकार और संसद में बैठे लोग मिलकर देश आगे बढाएं :मोदी ग्लोबल वॉर्मिंग से गरीबी की लड़ाई पड़ सकती है कमजोर: विश्व बैंक सोयूज अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए रवाना  वरिष्ठ नेता मुरली देवड़ा का निधन, मोदी ने जताया शोक  छह साल बाद पाक के पास होंगे 200 एटमी हथियार अलग विदर्भ के लिए गडकरी ने कांग्रेस से समर्थन मांगा
गेंहू का रकबा रबी सत्र में तीन प्रतिशत घटा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:30-11-12 08:44 PM
Image Loading

रबी सत्र में अभी तक गेहूं बुवाई का रकबा तीन प्रतिशत घटकर 157.89 लाख हेक्टेयर रह गया है। कृषि मंत्रालय द्वारा जारी ताजा आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है।

वर्ष भर पहले की समान अवधि में प्रमुख रबी फसल (जाड़े में बोई जाने वाली फसल) गेहूं का रकबा 162.5 लाख हेक्टेयर था। गेहूं के दुनिया में दूसरे सबसे बड़े उत्पादक देश भारत ने 2011-12 के फसल वर्ष (जुलाई से जून) में रिकॉर्ड 9.39 करोड़ टन गेहूं का उत्पादन किया था।

एक सरकारी बयान में कहा गया है कि विभिन्न राज्यों से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार देश के विभिन्न भागों में रबी फसल की बुवाई प्रगति पर है। अभी तक चावल खेती का रकबा भी 19 प्रतिशत घटकर 0.85 लाख हेक्टेयर रह गया है जो पिछले रबी सत्र की समान अवधि में 1.05 लाख हेक्टेयर था।

मोटे अनाज के खेती का रकबा घटकर 46.15 लाख हेक्टेयर रह गया जो वर्ष भर पहले की समान अवधि में 44.83 लाख हेक्टेयर था। इसी प्रकार दलहन का रकबा भी चालू रबी सत्र में अभी तक 6.45 प्रतिशत घटकर 102.49 लाख हेक्टेयर रह गया है जो वर्ष भर पहले की समान अवधि में 109.56 लाख हेक्टेयर था।

हालांकि तिलहन खेती का रकबा पहले के 66.76 लाख हेक्टेयर के मुकाबले थोड़ा अधिक यानी 66.84 लाख हेक्टेयर है। रबी सत्र में अभी तक कुल खेती का रकबा करीब 10.48 लाख हेक्टेयर कम यानी 374.22 लाख हेक्टेयर है।

भारत ने 2011-12 के फसल वर्ष में 25 करोड़ 74.4 लाख टन खाद्यान्न का रिकॉर्ड उत्पादन किया था। देश के कुछ भागों में खराब मानसून के कारण चालू फसल वर्ष 2012-13 में उत्पादन घटकर 25 करोड़ टन रह जाने की उम्मीद है।

 
 
 
टिप्पणियाँ