गुरुवार, 23 अक्टूबर, 2014 | 12:14 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
राजकोषीय स्थिति पर दलगत भावना से ऊपर उठें: ओबामा
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:20-12-12 04:44 PM
Image Loading

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने रिपब्लिकन सांसदों से अपील की कि साल के अंत तक पैदा होने वाले राजकोषीय संकट को टालने के लिए दलगत दृष्टिकोण से ऊपर उठने की अपील की।

ओबामा ने कहा यदि आप राजनैतिक विरोध वापस लेते हैं, यदि आप दलीय रणनीति से ऊपर उठते हैं तो हम कुछ कर सकते हैं।

ओबामा और रिपब्लिकन सांसद के बीच कर वृद्धि और खर्च में कटौती की आखे खड़ी होने वाली स्थिति से निपटने के उपाय पर सहमति की तलाश है। अर्थशास्त्रियों का मानना है कि खर्च में कटौती से अर्थव्यवस्था फिर से मंदी के दौर में प्रवेश कर सकती है।

राष्ट्रपति ने इस सप्ताह एक नई पेशकश की जिसके तहत चार लाख डॉलर या इससे ज्यादा आय प्राप्त करने वालों पर ज्यादा कर लगाया जाएगा लेकिन प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष जॉन बोनर ने प्रस्ताव किया है कि 10 लाख या इससे ज्यादा कमाने वालों को छोड़कर सब पर मौजूदा दर से कर लगाया जाए। ओबामा ने कहा कि उन्हें अभी भी समझौते की उम्मीद है। पर उन्होंने हैरानी जताई कि रिपब्लिकन पार्टी के लोग उनके प्रस्ताव को बातचीत का आधार बनाने पर क्यों राजी नहीं हो रहे हैं।

ओबामा ने कल व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा रिपब्लिकन पार्टी के सांसद इसलिए उनके साथ सहयोग नहीं कर पा रहे हैं कि उन्हें अपने संसदीय क्षेत्र में मुश्किल होगी। उन्होंने कहा मेरे साथ सहयोग करना उनके लिए संवेदनशील विषय है। मैं इसे स्वीकार करता हूं।

राष्ट्रपति ओबामा ने साफ किया कि वह रिपब्लिकन सांसदों के साथ ऋण सीमा या इसका उपयोग दबाव के तौर पर करने के संबंध में कोई समझौता नहीं करेंगे।

उन्होंने कहा मैंने एक स्पष्ट नीति बनाई है कि मैं ऋण की सीमा तय करने के संबंध में कोई समझौता नहीं करुंगा। हम वहीं चीजें नहीं दोहराना चाहते तो 2011 में हुआ था। उन्होंने उस समझौते को अमेरिकी अर्थव्यवस्था के लिए नुकसानदेह बताया। ओबामा ने कहा कि घाटा संतुलित और जिम्मेदाराना तरीके से कम करना महत्वपूर्ण होगा।
 
 
 
टिप्पणियाँ