मंगलवार, 03 मार्च, 2015 | 14:20 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
झारखंड बजट: महिलाओं को ड्राइविंग लाइसेंस की फीस नहीं लगेगीझारखंड बजट: कोई अतिरिक्त टैक्स नई लगेगाझारखंड बजट: पुलिस में 10 हजार न्यूक्तियां होगीझारखंड बजट: नया पुलीस एक्ट बनेगाझारखंड बजट: राज्य विकास परिशद का गठन होगासीएम रघुवीर दास के पास ही वित्त विभाग भी है। यह नई सरकार का पहला बजट हैझारखंड मुख्यमंत्री ने बजट पेश करना शुरू किया
सूक्ष्म कर्ज पर ब्याज दर क्षमता अनुरुप हो: रंगराजन
हैदराबाद, एजेंसी First Published:10-12-12 10:40 PM
Image Loading

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (पीएमईएसी) के चेयरमैन सी रंगराजन ने सोमवार को यहां कहा कि सूक्ष्म वित्त देने वाली संस्थाओं को कर्जदारों की कर्ज वापसी क्षमता को ध्यान मे रखते हुए तय की जानी चाहिए।

सेंटर फार इकोनामिक एंड सोशल स्टडीज के एक कार्यक्रम रंगराजन ने कहा कि कर्जदारों के पुनर्भगतान को ध्यान में रखकर ब्याज दरें नियत और स्थिर होनी चाहिए। स्थिति पर गौर किए बिना स्वतंत्र रूप से ब्याज दरें तय करना खतरनाक हो सकता है।

उन्होंने कहा कि मेरे हिसाब से यही वह स्थिति है जहां जगह चीजें गलत हुई। उनसे सूक्ष्म वित्त देने वाली संस्थाओं द्वारा ली जाने वाली ब्याज दरों की उच्चतम सीमा तय करने के बारे में पूछा गया था।

सूक्ष्म वित्त संस्थान (विकास एवं नियमन) विधेयक पर फिलहाल संसदीय समिति विचार कर रही है। इसमें रिजर्व बैंक को सूक्ष्म वित्त उद्योग के विनियमन का अधिकार देने तथा ब्याज दर की सीमा निर्धारित किए जाने का प्रावधान है।

आंध्र प्रदेश तथा अन्य राज्यों में सूक्ष्म वित्त संस्थाओं से कर्ज लेने वाले लोगों को होने वाली परेशानियों को देखते हुए विधेयक में नए प्रावधान किए गए और इसी परिपेक्ष में इसे तैयार किया गया।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड