शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 02:12 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
ईंधन कीमतों में वृद्धि जरूरी: मोंटेक
मुंबई, एजेंसी First Published:28-12-12 09:38 PMLast Updated:28-12-12 11:37 PM
Image Loading

योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने शुक्रवार को  कहा कि ईंधन कीमतों में अगर वृद्धि नहीं होती है तो राजकोषीय घाटा और बढ़ेगा जो पहले से ही उच्च स्तर पर है।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कल ईंधन मूल्यों में चरणबद्ध ढंग से वृद्धि किये जाने पर जोर दिया। उसके बाद अहलूवालिया ने यह बात कही है।

निजी टेलीविजन को दिए साक्षात्कार में अहलूवालिया ने कहा कि कोई भी सरकार खासकर लोकतांत्रित व्यवस्था में कीमत बढ़ाने से बचना चाहती है। लोगों को यह समझना चाहिये कि अगर आप कीमत नहीं बढ़ायेंगे तो उसका दूसरे क्षेत्रों पर असर होगा।

पेट्रोलियम वस्तुओं का दाम नहीं बढ़ाने के परिणाम के बारे में अहलूवालिया ने कहा कि इससे सब्सिडी का बोझ बढ़ेगा, जिससे बजट पर दबाव बढ़ेगा, सामाजिक क्षेत्र की योजनाओं पर खर्च करने के लिये संसाधन कम होंगे तथा तेल कंपनियों की स्थिति और खराब होगी।

राष्ट्रीय विकास परिषद की बैठक को कल संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने पेट्रोलियम उत्पादों, कोयला तथा बिजली दरों में चरणबद्ध तरीके से वृद्धि किये जाने पर जोर दिया। अहलूवालिया ने कहा कि हाल में डीजल के दाम में वृद्धि के बावजूद पेट्रोलियम उत्पादों पर तेल कंपनियों को 1,60,000 करोड़ रुपए का नुकसान होने का अनुमान है। इससे बजट पर बोझ पड़ना तय है।

सस्ते रसोई गैस सिलेंडरों की संख्या सीमित किये जाने पर उन्होंने कहा कि इन चीजों के दाम जितना बढ़ाये जाने की जरूरत है, हम उसका मूल्य उतना नहीं बढ़ा पा रहे हैं। ऊर्जा कीमतों को वैश्विक दरों से जोड़े जाने की वकालत करते हुए उन्होंने कहा, हमें ऊर्जा सब्सिडी का बोझ कम करने की जरूरत है।

 
 
 
टिप्पणियाँ