रविवार, 25 जनवरी, 2015 | 17:45 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हमारी दोस्ती का असर दोनों देशों के रिश्तों में दिख रहा है: ओबामाओबामा : अकेले में मिलते हैं तो एक दूसरे को समझते हैंएक-दूसरे को जानने की कोशिश की : मोदीमोदी : पर्सनल कमेस्ट्री मायने रखती हैअकेले में जो बात होती है उसे पर्दे में रहने दें : मोदीरक्षा क्षेत्र में तकनीकी सहयोग पर हमारी चर्चा हुई:ओबामाओबामा : मंगलवार को रेडियो पर भारतीय लोगों से बातचीत का इंतजार हैहम परमाणु करार पर अमल की ओर आगे बढ़े :ओबामाओबामा :हम भारत-अमेरिका के रिश्तों को नई ऊंचाई तक ले जाना चाहते हैंहम अपने व्यापारिक रिश्तों को और आगे ले जाएंगे : ओबामाओबामा : चाय पर चर्चा के लिए पीएम मोदी का शुक्रियान्योते के लिए धन्यवाद : ओबामाओबामा ने हिंदी में कहा मेरा प्यार भरा नमस्कारओबामा ने नमस्ते के साथ अपना बयान शुरू कियापर्यावरण के लिए दोनों देश मिलकर काम करेंगे :मोदीआतंकी गुटों पर कार्रवाई को लेकर कोई भेद नहीं रखेंगे :मोदीमोदी: रक्षा के क्षेत्र में, समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में हम सहयोग बढ़ाएंगेपरमाणु करार के व्यवसायिक नतीजे अब दिखेंगे : मोदीमोदी : पिछले कुछ दिनों में दोनों देशों में गर्मजोशी दिखीअमेरिका सबसे अच्छा दोस्त है :मोदीमैं अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने हमारा न्यौता स्वीकारा। मैं जानता हूं कि दोनों कितने व्यस्त रहते हैं- मोदीमोदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत में ओबामा और मिशेल का स्वागत है। गणतंत्र दिवस पर हमारा महमान बनना खास हैहैदराबाद हाउस में हुई मोदी और ओबामा की मुलाकातओबामा और मोदी देंगे साझा बयानथोड़ी देर में मीडिया के सामने आएंगे ओबामा और मोदी
औद्योगिक कर्मचारियों की खुदरा मुद्रास्फीति अक्टूबर में 9.6 प्रतिशत पर
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:01-12-12 02:08 PMLast Updated:01-12-12 02:12 PM
Image Loading

गेहूं, चावल और दूसरी जरूरी वस्तुओं के ऊंचे दाम से अक्टूबर माह में औद्योगिक कर्मचारियों के अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति बढ़कर 9.6 प्रतिशत पर पहुंच गई।
   
सरकारी आंकड़ों के अनुसार खुदरा बाजार पर आधारित महंगाई का यह आंकड़ा एक महीना पहले सितंबर में 9.14 प्रतिशत पर था, जबकि एक साल पहले अक्टूबर में 9.39 प्रतिशत रहा था।
   
सूचकांक वृद्धि में सबसे ज्यादा योगदान खाद्य वस्तुओं का रहा, जिसकी वजह से खुदरा मुद्रास्फीति में 0.45 प्रतिशत अंक की वृद्धि हुई। सबसे ज्यादा असर गेहूं, आटा, दूध, चाय और प्याज के दाम बढ़ने का रहा।
   
मुद्रास्फीति में खाना पकाने की गैस, बिजली दरों की वृद्धि, जलाने की लकड़ी, दवायें, डॉक्टर की फीस, बस किराया, सिनेमा टिकट की दरें बढ़ने का भी काफी असर रहा।
   
सूचकांक में तेल और वसा की गिरावट अहम रही, अन्यथा वृद्धि कहीं अधिक होती। मूंगफली, नारियल तेल, वनस्पति घी और पॉम तेल के दाम में गिरावट रही।
   
देश भर में खुदरा सूचकांक में मोंगेर, जमालपुर और सिलीगुड़ी प्रत्येक में सबसे ज्यादा छह अंकों की वृद्धि दर्ज की गई। सिल्न्चर, गुंटूर, सेलम, झरिया, कोयमबटूर, शोलापुर, जलपाईगुड़ी, कोडरमा, मारियानी, जोरहाट, बैंगलूए और त्रिपुरा प्रत्येक में चार अंक की वृद्धि रही।

इसके विपरीत हुबली धारवाड़ केन्द्रों में प्रत्येक चार अंक की गिरावट दर्ज की गई जबकि गोवा में तीन अंक, चेन्नई, वाराणसी प्रतयेक में दो अंक तथा अन्य छह केन्द्रों में प्रत्येक में एक अंक की गिरावट रही।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड