सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 04:46 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
2010-11 में रोजगार 7.8 प्रतिशत बढ़ा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:31-12-12 10:52 PM

उद्योग में रोजगार की संख्या 2010-11 में 7.8 प्रतिशत बढ़ी जबकि वेतन में वास्तविक रूप से (मुद्रास्फीति निकालकर) 18.1 प्रतिशत की वृद्धि हुई। सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय द्वारा सोमवार को जारी सालाना औद्योगिक सर्वे के अनुसार 2010-11 में विभिन्न उद्योगों में 1.27 करोड़ लोग लगे थे जबकि 2009-10 में यह संख्या 1.17 करोड़ थी।

चालू कीमतों पर वेतन 2010-11 में 24.8 प्रतिशत बढ़ा जबकि वास्तविक रूप से वेतन में 18.1 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। सर्वे के अनुसार खाद्य उत्पादों (उत्पादन इकाइयां) में सर्वाधिक 12.2 प्रतिशत रोजगार का सृजन हुआ। उसके बाद क्रमश: कपड़ा (11.5 प्रतिशत) तथा मूल धातु (8 प्रतिशत) का स्थान रहा।

रोजगार देने में तमिलनाडु आगे रहा। इस मामले में उसकी 15.4 प्रतिशत हिस्सेदारी रही। उसके बाद क्रमश: महाराष्ट्र (13.4 प्रतिशत), आंध्र प्रदेश (10.3 प्रतिशत) तथा गुजरात (10.1 प्रतिशत) का स्थान रहा।

आलोच्य वर्ष में कुल फैक्टरी की संख्या 2,11,660 रही जबकि 209-10 में यह संख्या 1,58,877 इकाई थी।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड