सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 08:21 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    पाकिस्तान ने किया संघर्षविराम का उल्लंघन, बीएसएफ जवान शहीद लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम
भारत तक पहुंचा आईट्यून
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-12-12 05:25 PM
Image Loading

लंबे इंतजार के बाद अब भारत में आइपैड, आईपॉड और आईफोन का इस्तेमाल करने वाले लोग अपने पसंदीदा बालीवुड और क्षेत्रीय फिल्मों, गीत-संगीत व किताबों को आईट्यून से खरीद सकते हैं और वह भी रुपए में।

एप्पल ने भारत के साथ ही रूस, तुर्की और दक्षिण अफ्रीका समेत 55 अन्य देशों में आईट्यून स्टोर शुरू किया है जहां से लोग स्थानीय एवं अंतरराष्ट्रीय विषय वस्तु खरीद सकते हैं।

आईट्यून स्टोर अमेरिका में एक लोकप्रिय सेवा है और यह पहले से ही 119 देशों में उपलब्ध है। एप्पल ने एक बयान जारी कर कहा कि भारतीय उपभोक्ता आईट्यून 2 करोड़ से अधिक गाने चुन सकेंगे।

जहां गानों की कीमत करीब 12 रुपए है, एक था टाइगर जैसे नए बालीवुड एलबम 96 रुपए में उपलब्ध है। वहीं एक था टाइगर जैसी एक फिल्म का हाई डेफिनिशन संस्करण 490 रुपए में उपलब्ध है।

भारत में एप्पल आईट्यून को नोकिया म्यूजिक स्टोर से प्रतिस्पर्धा करनी पड़ेगी जिसके पास 45 लाख से अधिक गानों का भंडार है। साथ ही उसे फ्लिपकार्ट के डिजिटल म्यूजिक स्टोर फ्लाइट से भी मुकाबला करना पड़ेगा। नोकिया दावा करती है कि उसके म्यूजिक स्टोर्स से रोजाना 14 लाख गाने डाउनलोड किए जाते हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड