शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 19:59 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दूरसंचार नियामक ट्राई का कॉल ड्रॉप के लिए उपभोक्ताओं को मुआवजे का प्रस्ताव।RSS की बैठक में बोले मोदी, बड़े बदलाव के लिए काम कर रहे हैं, जल्द ही नतीजे सामने आएंगेपटना में निषाद समुदाय के प्रदर्शन के दौरान शामिल लोगों और पुलिस के बीच हुई झड़प में 25 घायलदिल्ली में लालू-मुलायम की बैठक खत्म, 5 सीटें मिलने से सपा नाराजदिल्ली: पीएम 6 सितंबर को करेंगे बदरपुर से फरीदाबाद तक चलने वाली मेट्रो का शुभारंभ
अनाज की बर्बादी घटी, भंडारण क्षमता बढ़ी
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-12-2012 02:35:57 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

सरकार ने मंगलवार को कहा कि देश में अनाज की भंडारण क्षमता बढ़ी है और भंडार गृहों में अनाज की बर्बादी में काफी कमी आई है।

लोकसभा में रतन सिंह अजनाला समेत कई अन्य सदस्यों के पूरक प्रश्न के उत्तर में उपभोक्ता, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मामलों के मंत्री केवी थामस ने कहा कि 2002-03 में अनाज की बर्बादी 2.5 प्रतिशत थी, जो अब घटकर 0.06 प्रतिशत रह गई है।

उन्होंने कहा कि 2001-02 में गेहूं का उत्पादन 72.7 करोड़ टन था और उस वर्ष 19 करोड़ टन अनाज की खरीद सरकार ने की थी। 10 वर्ष बाद अब गेहूं का उत्पादन 93.9 करोड़ टन है, जबकि 38 करोड़ टन अनाज की खरीद सरकार ने की है।

उन्होंने कहा कि भंडारण क्षमता बढ़ाए जाने की अभी भी आवश्यकता है, लेकिन निजी क्षेत्र से लोग इस कार्य के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। देश के कुल उत्पादन का 37 प्रतिशत अनाज ही खरीदा जा रहा है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें