गुरुवार, 24 जुलाई, 2014 | 11:56 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    तेलंगाना में ट्रेन की चपेट में आई स्कूल बस, 11 बच्चों की मौत मलेशियाई एयरलाइंस हादसा : अमेरिका ने पुतिन पर तेज किये हमले सिख पगड़ियों पर अपनी नीति की समीक्षा करे फीबा : अमेरिकी सांसद नियमों में बदलाव से तीस हजार सफल छात्र बैंक नौकरी से वंचित गाज़ा में हताहतों की संख्या 700 के पार, संघर्ष विराम का बढ़ा दबाव ईरान के नेता ने कहा, इस्राइल से लड़ाई जारी रखे फलस्तीन  लीबिया में सत्ता परिवर्तन की घोषणा, एयरपोर्ट पर संघर्ष जारी राष्ट्रमंडल खेल : रंगारंग और भव्य समारोह के साथ हुई शुरुआत ताइवान में लैंडिंग के दौरान हुआ विमान दुर्घटनाग्रस्त, 51 लोगों की मौत दिमागी बुखार से बंगाल में अब तक 105 की मौत
 
मिलों से खरीदी जाने वाली चीनी की कीमत बढ़ा सकती है सरकार
नई दिल्ली, एजेंसी
First Published:08-01-13 12:45 PM
Last Updated:08-01-13 01:15 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

सरकार राशन की दुकानों के जरिये बेचने के लिये मिलों से खरीदी जाने वाली चीनी की कीमत (लेवी मूल्य) चालू वर्ष के लिये करीब दो रुपये से अधिक बढ़ाकर करीब 22 रुपये प्रति किलो कर सकती है। 
     
विपणन वर्ष 2011-12 (अक्टूबर-सितंबर) में चीनी का लेवी मूल्य 19.04 रुपये किलो था। सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमने पिछले साल के मुकाबले चीनी की लेवी कीमत में 2 रुपये प्रति किलो से अधिक की वृद्धि का प्रस्ताव किया है।
     
अधिकारी के अनुसार वित्त मंत्रालय प्रस्ताव पर विचार कर रहा है। लेवी कीमत बढ़ने से 400-500 करोड़ रुपये की सब्सिडी बढ़ेगी। चीनी क्षेत्र सरकार के नियंत्रण में है। चीनी मिलों को सस्ते गल्ले की दुकानों से बिकने वाली चीनी के लिये अपने कुल उत्पादन का 10 प्रतिशत हिस्सा सरकार को बेचना होता है। 
     
लेवी कीमत का आकलन उचित और लाभदायक मूल्य (एफआरपी) के आधार पर किया जाता है। विपणन वर्ष 2012-13 के लिये एफआरपी 170 रुपये प्रति क्विंटल था।
     
सरकार बाजार भाव से कम मूल्य पर चीनी खरीदती है और राशन की दुकानों के जरिये 13.50 रुपये प्रति किलो बेचती है। सरकार हर साल गरीबों को राशन की दुकानों के जरिये 27 लाख टन चीनी बेचती है। अधिकारी ने कहा कि चीन की लेवी कीमत हर साल बढ़ रही है लेकिन खुदरा मूल्य 2002 से समान है।
     
सरकार ने चालू वर्ष में चीनी का उत्पादन 2.3 करोड़ टन रहने का अनुमान जताया है जबकि पिछले साल 2.6 करोड़ टन चीनी का उत्पादन हुआ था। घरेलू मांग 2.1 से 2.2 करोड़ टन रहने का अनुमान है और इस लिहाज से उत्पादन पर्याप्त है।
     
अधिकारी ने कहा कि सरकार अगले महीने गन्ना उत्पादन के दूसरे अग्रिम अनुमान के आधार पर चीनी उत्पादन के अनुमान को संशोधित कर सकती है। 

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
धूपसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 05:41 AM
 : 06:55 PM
 : 16 %
अधिकतम
तापमान
43°
.
|
न्यूनतम
तापमान
24°