रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 05:05 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
इंटरनेट पर सरकार के रुख से भागीदार सहमत: कपिल
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:27-11-12 10:32 PMLast Updated:27-11-12 11:15 PM
Image Loading

सरकार ने मंगलवार को कहा कि इंटरनेट के प्रबंधन को लेकर उसकी समाज (सिविल सोसायटी) के लोगों तथा अन्य भागीदारों के साथ सहमति बन गई है। सरकार अपने विचारों को संयुक्त राष्ट्र की संस्था आईटीयू की बैठक में रखेगी।

इंटरनेशनल कम्युनिकेशंस यूनियन (आईटीयू) की बैठक तीन दिसंबर से दुबई में होनी है। भारत अपनी सिफारिशें इसमें पेश करेगा। आईटीयू दुनिया भर की दूरसंचार कंपनियों के लिए अंतरराष्ट्रीय नियम बनाते समय हर सदस्य की राय पर विचार करेगी।

दूरसंचार तथा आईटी मंत्री कपिल सिब्बल ने इंटरनेट के प्रबंधन को लेकर सरकार के रुख पर उद्योग तथा अन्य भागीदारों के साथ चर्चा की। सिब्बल ने कहा कि मोटे तौर पर सहमति है। सरकार का रख सही दिशा का है।

हालांकि बैठक का ब्यौरा मंत्री ने नहीं दिया लेकिन इंटरनेट जगत के उदयोग से जुड़े प्रतिनिधि तथा भागीदार राहत में दिखे। इंटरनेट सेवा प्रदाता एसोसिएशन (आईएसपीएआई) के अध्यक्ष राजेश छरिया ने कहा कि इंटरनेट को आईटीयू के अधीन लाने की सिफारिश नहीं करना था बुनियादी ढांचे की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय कानून बनाना स्वागतत योग्य कदम है।
 
 
 
टिप्पणियाँ