सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 00:56 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
सुधार की पटरी पर लौट रहे है वैश्विक वित्तीय संस्थान
दुबई, एजेंसी First Published:17-12-12 12:24 PM
Image Loading

वैश्विक आर्थिक संकट की मार झेलने वाले वित्तीय संस्थान अब सुधार की पटरी पर लौट रहे हैं। लंदन बिजनेस स्कूल द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में वित्त विशेषज्ञ ज़े क्रिस्टोफर फ्लावर्स ने यह बात कही।
   
कोलर इंस्टीटयूट आफ प्राइवेट इक्विटी और लंदन बिजनेस स्कूल द्वारा आयोजित कार्यक्रम में फ्लावर्स ने कहा कि वित्तीय संस्थानों के उद्योग में कुछ लोग ऐसे हैं जो सोचते हैं कि उन्हें पूंजी पर कम रिटर्न मिल रहा है। मैं ऐसा नहीं समझता।
   
उन्होंने कहा कि एक चीज जो मुझे लगती है कि वर्ष 2020 तक वित्तीय संस्थान और पूंजी पर रिटर्न एवं वित्तीय संस्थानों के लिए लाभप्रदता सामान्य स्थिति में लौट आएगी।
   
उन्होंने कहा कि यह आवश्यक है कि इन उद्योगों में और अधिक पूंजी का प्रवाह आए ताकि ये अर्थव्यवस्था की जरूरतें पूरी करने के लिए वित्तीय सुविधा प्रदान कर सकें।
   
यूरो संकट पर फ्लावर्स ने कहा कि मैंने अर्थव्यवस्था में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं, लेकिन यह स्थिति कि मुद्रा बरकरार रहेगी या नहीं, एक बहुत असाधारण मुद्दा है। अगर एक देश यूरो छोड़ देता है तो उस देश में ज्यादातर बैंक ढह जाएंगे और यह एक आपदा जैसा होगा।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड