शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 20:50 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा जम्मू-कश्मीर, झारखंड चुनावों की आज हो सकती है घोषणा
डीजल सब्सिडी कम करने के लिए कदम की जरूरत: रंगराजन
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:08-01-13 05:14 PM
Image Loading

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के चेयरमैन सी रंगराजन ने मंगलवार को कहा कि सरकार को सब्सिडी बिल घटाने को लेकर डीजल दरों को वैश्विक कीमतों के अनुरूप लाने के लिए तेजी से काम करना चाहिए।

रंगराजन ने कहा कि मेरे हिसाब से जीडीपी के अनुपात में सब्सिडी में कटौती की जरूरत है। इसीलिए, डीजल सब्सिडी घटाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमें इस पर तेजी से काम करना चाहिए।

वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमत के अनुरूप घरेलू मूल्य निर्धारित करना बेहद जरूरी हो गया है। इस समय कच्चे तेल की कीमत करीब 95 डॉलर प्रति बैरल है।

अगर सरकार विजय केलकर समिति की सिफारिशों को स्वीकार करती है तो डीजल की कीमत में अगले एक साल में 10 रुपए प्रति लीटर की वृद्धि होगी।

राजकोषीय मजबूती के लिए खाका तैयार करने के बारे में सुझाव देने के लिये वित्त मंत्रालय ने समिति का गठन किया था। समिति ने अपनी रिपोर्ट में डीजल और केरोसीन की कीमतों में वृद्धि का सुझाव दिया है।

सरकार को डीजल, रसोई गैस (एलपीजी) तथा केरोसीन को उत्पादन लागत से कम मूल्य पर बिक्री से चालू वित्त वर्ष में 1,60,000 करोड़ रुपए का घाटा होने का अनुमान है।

डीजल की कीमत में पिछली बार 14 सितंबर को वृद्धि की गई थी। इस समय डीजल का मूल्य दिल्ली में 47.15 रुपए प्रति लीटर है।
 
 
 
टिप्पणियाँ