शुक्रवार, 29 मई, 2015 | 01:36 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मोदी ने मनमोहन से लिया था एक घंटे इकॉनोमी का ज्ञानः राहुल लोकलुभावन रास्ते की बजाय अधिक कठिन मार्ग चुना :मोदी CBSE 10th रिजल्ट: 94,447 छात्रों को मिला 10 सीजीपीए सोनिया की मौजूदगी में हुई बैठक, पास हुआ मोदी के खिलाफ निंदा प्रस्ताव जेट एयरवेज की टिकटों पर 25 प्रतिशत छूट की पेशकश रायबरेली पहुंची सोनिया गांधी व्यापम घोटाला: अब तक जांच से जुड़े 40 लोगों की मौत त्रिपुरा सरकार ने राज्य में 18 सालों से लगा अफस्पा हटाया गुर्जर आंदोलन: बैंसला बोले, चाहे कुछ हो जाए बिना आरक्षण लिए नहीं लौटेंगे कुछ इस तरह हुई फीफा के 14 अधिकारियों की गिरफ्तारी
कोयला क्षेत्र के निजीकरण के किसी भी प्रयास का विरोध करेगा सीटू
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-01-13 02:52 PM
Image Loading

श्रमिक संगठन सीटू ने निजी कंपनियों को उनके अपने (कैप्टिव) इस्तेमाल के लिए आवंटित सभी कोयला खानों को रद्द करने की मांग की है। संगठन का कहना है कि वह कोयला क्षेत्र के निजीकरण के किसी भी कदम का विरोध करेगा।
   
सेंटर आफ इंडियन ट्रेड यूनियंस (सीटू) के बयान में कहा गया है कि सीटू कोयला क्षेत्र के निजीकरण के समर्थन में योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया के बयान की आलोचना करता है। अहलूवालिया का यह बयान मीडिया में आया है।
   
सीटू के महासचिव तथा राज्यसभा सदस्य तपन सेन ने कहा है कि इस तरह के किसी भी कदम का हड़ताल के जरिये विरोध होगा। उन्होंने अहलूवालिया के संबंधित बयान को गलत तथ्यों पर आधारित बताया है।
   
सीटू ने कहा है कि  निजी कंपनियों को घरेलू इस्तेमाल के लिए आवंटित सभी कोयला खानों का आवंटन रद्द हो। कोल इंडिया को सभी खनन की सांविधिक जिम्मेदारी दी जाये।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingमूडी, पोटिंग, फ्लेमिंग या विटोरी हो सकते हैं टीम इंडिया के नए कोच
भारतीय टीम के पूर्व कोच डंकन फ्लेचर का कार्यकाल खत्म हो चुका है और बीसीसीआई अब एक नए कोच की तलाश में जुटी हुई है। टीम इंडिया का कोच बनना एक बड़ी चुनौती होती है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड