बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 05:52 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    झारखंड में पहले चरण में लगभग 62 फीसदी मतदान  जम्मू-कश्मीर में आतंक को वोटरों का मुंहतोड़ जवाब, रिकार्ड 70 फीसदी मतदान  राज्यसभा चुनाव: बीरेंद्र सिंह, सुरेश प्रभु ने पर्चा भरा डीडीए हाउसिंग योजना का ड्रॉ जारी, घर का सपना साकार अस्थिर सरकारों ने किया झारखंड का बेड़ा गर्क: मोदी नेपाल में आज से शुरू होगा दक्षेस शिखर सम्मेलन  दक्षिण एशिया में शांति, विकास के लिए सहयोग करेगा भारत काले धन पर तृणमूल का संसद परिसर में धरना प्रदर्शन 'कोयला घोटाले में मनमोहन से क्यों नहीं हुई पूछताछ' दो राज्यों में प्रथम चरण के चुनाव की पल-पल की खबर
रंगराजन अमीरों पर ज्यादा कर लगाने के पक्ष में
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-01-13 08:50 PM
Image Loading

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष सी़ रंगराजन ने अमीरों पर ऊंची दर से कर लगाने की वकालत की है। उन्होंने कहा कि आगामी बजट में एक सीमा से अधिक आय वाले व्यक्तियों पर अधिभार लगाने की संभावनायें टटोली जा सकती हैं।

वित्तीय समावेश पर आयोजित गोष्ठी में रंगराजन ने संवाददाताओं से कहा कि फिलहाल जो आयकर दरों का ढांचा है, उसे छेड़ने की जरूरत नहीं है। लेकिन एक खास सीमा से ज्यादा कमाई करने वालों पर अधिभार लगाया जा सकता है। आने वाले दिनों में हमें और राजस्व की जरूरत होगी और मेरा मानना है कि अधिक कमाई करने वाले इसमें ज्यादा योगदान करने को तैयार होंगे।

रंगराजन का यह सुझाव 2013-14 की बजट तैयारियों से पहले आया है। वित्त मंत्री पी़ चिदंबरम ने बजट की तैयारियों के सिलसिले में विभिन्न समूहों से विचार विमर्श का सिलसिला शुरू किया है।

भारत में आय पर कर तीन स्तरों में लगता है, दस, बीस और 30 प्रतिशत। आयकर की ये दरें 1997 में उस समय भी वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम ने ही तय की थी।

मजे की बात है कि हाल में अर्थशास्त्री राजा चेलैया के सम्मान में आयोजित व्याख्यान में चिदंबरम ने भारत में विरासत में मिली संपत्ति पर कर लगाये जाने पर बहस का आह्वान किया था। उन्हें इस तरफ भी इशारा किया कि कुछ लोगों के हाथों में एकत्रित अकूत संपत्ति की तरफ ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया।

इसी सप्ताह अमेरिकी संसद ने अमेरिका के बड़े अमीरों पर कर बढ़ाने के पक्ष में मतदान किया, ताकि राजकोषीय असंतुलन के संकट से उबरा जा सके। अमेरिकी कानून में एक व्यक्ति द्वारा 4,00,000 डालर सालाना और किसी दंपति द्वारा 4,50,000 डालर सालाना से ज्यादा की आय पर कर बढ़ाया गया है।

जाने-माने अर्थशास्त्री और भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर ने आर्थिक वृद्धि को प्रोत्साहित करने के लिए राजकोषीय अनुशासन पर भी जोर दिया।

 
 
 
टिप्पणियाँ