शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 01:26 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
2013 भी मुश्किलों वाला साल होगा: बसु
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:15-12-12 04:14 PM
Image Loading

विश्व बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री कौशिक बसु ने शनिवार को कहा कि यूरोपीय स्थिति 2014 के अंत तक कठिन बने रहेगी जिसके कारण आर्थिक वृद्धि के लिहाज से भारत के लिये 2013 भी मुश्किलों वाला साल साबित होगा।

दिल्ली आर्थिक सम्मेलन के दौरान बसु ने कहा कि भारत के लिये अगला साल भी बेहद कठिन होगा, क्योंकि यूरोपीय स्थिति 2014 के अंत या 2015 के शुरुआत तक बेहद कठिन बनी रहेगी। उन्होंने कहा कि यूरोप प्रमुख क्षेत्र है, इसलिए इसका असर भारत पर पड़ना तय है। वृद्धि परिदृश्य कठिन होगा।

हालांकि बसु ने कहा कि अगले दो साल में भारत 8 से 9 प्रतिशत आर्थिक वृद्धि दर हासिल कर लेगा। 2008 के वैश्विक आर्थिक संकट से पहले आर्थिक वृद्धि दर इतनी ही थी। दिसंबर 2009 से जुलाई 2012 के बीच भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार रहे बसु ने कहा कि भारत की बुनियाद मजबूत है और अगर इस दिशा में काम हो तो निश्चित रूप से भारत 8 से 9 प्रतिशत आर्थिक वृद्धि दर हासिल कर सकता है।

उन्होंने कहा कि वैश्विक माहौल कठिन है, अत: अभी संभव नहीं है कि हम 9 प्रतिशत आर्थिक वृद्धि दर हासिल कर लें, अगर भारत 6 से 7 प्रतिशत आर्थिक वृद्धि दर हासिल कर लेता है तो इसे अच्छा माना जाएगा। विश्व बैंक ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2012 में 5.5 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ