गुरुवार, 29 जनवरी, 2015 | 15:49 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पटना विश्वविद्यालय के सिनेट की बैठक के दौरान विरोध कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज, छपरा संघ के चुनाव की मांग को लेकर विरोधमुरादाबाद: वकीलों ने दिया सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन। आज का आंदोलन समाप्त। कल रेल रोकेंगे। वकीलों की सीओ से नोंकझोंक भी हुई।लोकायुक्त की रिपोर्ट के बाद यूपी के दो विधायक बर्खास्तसंभल के मोहल्ला ठेर में रूम हीटर से दम घुटने की वजह से एक व्यापारी की मौत हो गई। कमरे में व्यापारी के साथ सो रही उसकी पत्नी व एक साल के मासूम की हालत भी गंभीर।अमरोहा के मेहंदीपुर गांव में नकली दूध बनाने की फैक्टी पकड़ी. पचास लीटर दूध व सामान बरामद. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की कार्रवाई.बरेली के फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में प्रॉपर्टी डीलर के घर लाखों का डाकाआगरा : हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों में आपसी टकराव, संघर्ष समिति और ग्रेटर बार के पदाधिकारी भिड़े, बड़ी संख्या में फोर्स तैनात, पुलिस को फटकारनी पड़ीं लाठियांरामपुर के लालपुर में ट्रैक्टर ने बालक को रौंदा, मौत। हादसे के बाद हंगामा।
भारत की चार कंपनियों पर 10 करोड़ का जुर्माना
न्यूयार्क, एजेंसी First Published:28-11-12 02:26 PM
Image Loading

अमेरिकी बाजार नियामक एसईसी ने भारत की चार शेयर ब्रोकिंग फर्मों एंबिट कैपिटल, एडलविस फाइनेंसियल सर्विसेज, जेएम फाइनेंसियल और मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटीज पर वहां पंजीकरण नियमों के उल्लंघन के आरोप में 18 लाख डॉलर (करीब 10 करोड़ रुपए) का जुर्माना लगाया है।

रिपोर्ट के अनुसार ये फर्में मामला रफादफा करने के लिए जुर्माना भरने पर सहमत हो गयी हैं। सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (एसईसी) ने एक बयान में कहा कि उसने एंबिट कैपिटल, एडलविस फाइनेंसियल सर्विसेज, जेएम फाइनेंसियल और मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटीज लिमिटेड पर अभियोग तय किया था।

नियामक ने कहा कि कंपनियों पर आरोप है कि उन्होंने अमेरिका के संघीय शेयर बाजार कानून के मुताबिक एसईसी के पास पंजीकरण कराए बगैर अमेरिका में
संस्थागत निवेशकों को सेवाएं दीं।

चारों कंपनियां एक साथ एसईसी के साथ अरोप के निपटान के एवज में 18 लाख डॉलर के भुगतान पर सहमत हुई हैं।

 

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड