गुरुवार, 30 जुलाई, 2015 | 21:40 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    2022 तक आबादी में चीन को पीछे छोड़ देगा भारत  झारखंड में दिसंबर तक होगी 40 हजार शिक्षकों की नियुक्तियां महिन्द्रा सितंबर में पेश करेगी एसयूवी टीयूवी-300  नेपाल: भारी बारिश के बाद भूस्खलन, 13 महिलाओं समेत 25 की मौत, कई लापता पेट्रोल-डीजल के दामों में हो सकती है कटौती, 1 रुपये 50 पैसे तक घट सकते हैं दाम नागपुर की सेंट्रल जेल में 1984 के बाद पहली बार दी गई फांसी पढ़ें 1993 में हुए सीरियल बम ब्लास्ट से अब तक का घटनाक्रम निर्दोषों को आतंकी कहा जा रहा है, मैं धमाकों का जिम्मेदार नहीं: याकूब याकूब मेमन को फांसी के बाद मुंबई में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई पुंछ: LoC पर पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, एक जवान शहीद
घरेलू विनिर्माण क्षमता का नहीं हो रहा इस्तेमाल
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:28-11-2012 05:33:13 PMLast Updated:28-11-2012 05:33:54 PM
Image Loading

सार्वजनिक क्षेत्र की बिजली उपकरण कंपनी भेल ने कहा है कि बिजली क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं की वजह से ज्यादातर घरेलू विनिर्माण क्षमता का पूरा इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है।

भेल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक बीपी राव ने कहा कि भेल सहित घरेलू बिजली उपकरण बाजार 12वीं पंचवर्षीय योजना (2012-17) के दौरान 88,000 मेगावाट की अतिरिक्त उत्पादन क्षमता के लक्ष्य को पूरा करने में सक्षम है।

उन्होंने कहा कि भेल के पास खुद ही 20,000 मेगावाट की क्षमता है, लार्सन एंड टब्रो के पास 5,000 मेगावाट है। इसी तरह भारत फोर्ज-अल्टाम सहित अन्य संयुक्त उद्यम कंपनियों की भी क्षमताएं हैं।

राव ने कहा कि इन कंपनियों द्वारा 10,000 मेगावाट निर्माण के चरण में है, लेकिन 40,000 मेगावाट के लिए कोई बाजार नहीं है। उन्होंने कहा कि मौजूदा क्षमताओं का कम इस्तेमाल एक प्रमुख वजह है कि जिसके कारण सरकार ने आयातित बिजली उपकरणों पर ऊंचा शुल्क लगाने का कदम उठाया है।

राव ने कहा कि सरकार को इस बात की जानकारी है कि उनके पास क्षमता
है। आयात बढ़ने से इन क्षमताओं का और इस्तेमाल नहीं हो पाएगा। राव ने कहा कि घरेलू बिजली क्षेत्र को भूमि अधिग्रहण की समस्याएं, पर्यावरणीय मंजूरियों, कोष की कमी और डिस्कॉम की खराब सेहत की वजह से दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

सरकार ने इसी साल बिजली उपकरणों के आयात पर 21 प्रतिशत का शुल्क लगाया था। सरकार ने यह कदम मुख्य रूप से घरेलू कंपनियों को चीन के सस्ते आयात से बचाने के लिए उठाया।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपे टीएम ने बीसीसीआई से 2019 तक प्रायोजन अधिकार खरीदे
पे टीएम के मालिक वन97 कम्युनिकेशंस ने आज भारत में अगले चार साल तक होने वाले घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों के अधिकार 203.28 करोड़ रूप में खरीद लिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड