शुक्रवार, 03 जुलाई, 2015 | 13:24 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    सर्जरी के बाद हेमामालिनी की हालत ठीक, ईशा देओल मिलने पहुंचीं, जल्द ही पहुंचेंगे धर्मेंद्र भी झारखंड के चाईबासा में रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार झारखंड: हजारीबाग में पिता ने अबोध बेटी को पटक कर मार डाला जमशेदपुर में स्कूल वाहन चालक हड़ताल पर, अभिभावक परेशान झारखंड: सीएम ने राज्य के सबसे लंबे पुल की आधारशिला रखी यूपी के रायबरेली में सड़क हादसा, 9 लोगों की मौत सड़क हादसे में हेमा घायल, देखिए घटना के तुरंत बाद की दिल दहला देने वाली तस्वीरें बिहार में किया था मर्डर, दिल्ली में चला रहा था ढाबा, अरेस्ट यूपी: कुत्ते, बकरे की चोरी के मामले में मांग रहे राज्यपाल से मदद! लड़की पर लड़का भगाने का आरोप, मामला हुआ दर्ज, जांच जारी
घरेलू विनिर्माण क्षमता का नहीं हो रहा इस्तेमाल
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:28-11-12 05:33 PMLast Updated:28-11-12 05:33 PM
Image Loading

सार्वजनिक क्षेत्र की बिजली उपकरण कंपनी भेल ने कहा है कि बिजली क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं की वजह से ज्यादातर घरेलू विनिर्माण क्षमता का पूरा इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है।

भेल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक बीपी राव ने कहा कि भेल सहित घरेलू बिजली उपकरण बाजार 12वीं पंचवर्षीय योजना (2012-17) के दौरान 88,000 मेगावाट की अतिरिक्त उत्पादन क्षमता के लक्ष्य को पूरा करने में सक्षम है।

उन्होंने कहा कि भेल के पास खुद ही 20,000 मेगावाट की क्षमता है, लार्सन एंड टब्रो के पास 5,000 मेगावाट है। इसी तरह भारत फोर्ज-अल्टाम सहित अन्य संयुक्त उद्यम कंपनियों की भी क्षमताएं हैं।

राव ने कहा कि इन कंपनियों द्वारा 10,000 मेगावाट निर्माण के चरण में है, लेकिन 40,000 मेगावाट के लिए कोई बाजार नहीं है। उन्होंने कहा कि मौजूदा क्षमताओं का कम इस्तेमाल एक प्रमुख वजह है कि जिसके कारण सरकार ने आयातित बिजली उपकरणों पर ऊंचा शुल्क लगाने का कदम उठाया है।

राव ने कहा कि सरकार को इस बात की जानकारी है कि उनके पास क्षमता
है। आयात बढ़ने से इन क्षमताओं का और इस्तेमाल नहीं हो पाएगा। राव ने कहा कि घरेलू बिजली क्षेत्र को भूमि अधिग्रहण की समस्याएं, पर्यावरणीय मंजूरियों, कोष की कमी और डिस्कॉम की खराब सेहत की वजह से दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

सरकार ने इसी साल बिजली उपकरणों के आयात पर 21 प्रतिशत का शुल्क लगाया था। सरकार ने यह कदम मुख्य रूप से घरेलू कंपनियों को चीन के सस्ते आयात से बचाने के लिए उठाया।

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingमहिला क्रिकेट : वेदा का अर्धशतक, भारत ने बनाए 182 रन
वेदा कृष्णमूर्ति (61) के उम्दा अर्धशतक की बदौलत भारत की महिला क्रिकेट टीम ने एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में शुक्रवार को जारी तीसरे वनडे मुकाबले में न्यूजीलैंड के सामने 183 रनों का लक्ष्य रखा है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड