सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 02:32 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
चालू खाता घाटे को सीमित करना जरूरीः रंगराजन
चेन्नई, एजेंसी First Published:29-11-12 01:44 PM
Image Loading

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष सी रंगराजन ने कहा कि आने वाले समय में चालू खाता घाटे को कम कर सकल धरेलू उत्पाद के 2.5 फीसदी तक सीमित करना होगा।

गिरते निर्यात के बीच चालू खाते का घाटा 4.5 फीसदी से ऊपर पहुंच गया है। उन्होंने हालांकि कहा कि चालू वित्त वर्ष में चालू खाते का घाटा 3.5 फीसदी रहेगा। रंगराजन ने कहा कि चालू खाते का घाटा फिलहाल उच्च स्तर है और हमें इसे और घटाने की दिशा में काम करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हमें चालू खाता घाटे को कम कर सकल घरेलू उत्पाद के 2.5 फीसदी पर लाने का लक्ष्य रखना चाहिए जो फिलहाल 4.5 फीसदी है, लेकिन चालू वित्त वर्ष के दौरान शायद चालू खाता घाटा करीब 3.5 फीसदी रहेगा।

उन्होंने कहा कि देश की आर्थिक वृद्धि मुश्किल दौर से गुजर रही है और अर्थव्यवस्था की वृद्धि की राह पर लाने के लिए चालू खाता घाटे को कम करने की जरूरत है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड