गुरुवार, 30 अक्टूबर, 2014 | 19:18 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
प्रख्यात साहित्यकार रॉबिन शॉ पुष्प नहीं रहेन्यायालय ने गुमशुदा बच्चों के मामलों में प्राथमिकी दर्ज नहीं करने पर बिहार और छत्तीसगढ़ सरकारों को आड़े हाथ लिया।सरकार 1984 के सिख विरोधी दंगों में मारे गए 3,325 लोगों में से प्रत्येक के नजदीकी परिजन को पांच़-पांच लाख देगीमहाराष्ट्र की नई सरकार में शिवसेना के किसी नेता को शामिल नहीं किया जाएगा: राजीव प्रताप रूडी
चालू खाता घाटे को सीमित करना जरूरीः रंगराजन
चेन्नई, एजेंसी First Published:29-11-12 01:44 PM
Image Loading

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष सी रंगराजन ने कहा कि आने वाले समय में चालू खाता घाटे को कम कर सकल धरेलू उत्पाद के 2.5 फीसदी तक सीमित करना होगा।

गिरते निर्यात के बीच चालू खाते का घाटा 4.5 फीसदी से ऊपर पहुंच गया है। उन्होंने हालांकि कहा कि चालू वित्त वर्ष में चालू खाते का घाटा 3.5 फीसदी रहेगा। रंगराजन ने कहा कि चालू खाते का घाटा फिलहाल उच्च स्तर है और हमें इसे और घटाने की दिशा में काम करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हमें चालू खाता घाटे को कम कर सकल घरेलू उत्पाद के 2.5 फीसदी पर लाने का लक्ष्य रखना चाहिए जो फिलहाल 4.5 फीसदी है, लेकिन चालू वित्त वर्ष के दौरान शायद चालू खाता घाटा करीब 3.5 फीसदी रहेगा।

उन्होंने कहा कि देश की आर्थिक वृद्धि मुश्किल दौर से गुजर रही है और अर्थव्यवस्था की वृद्धि की राह पर लाने के लिए चालू खाता घाटे को कम करने की जरूरत है।

 
 
 
टिप्पणियाँ