शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 12:30 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
देहरादून शहर के आदर्श नगर में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्यागर्भवती महिला समेत तीन लोगों की हत्याहत्याकांड के कारणों का अभी खुलासा नहींपुलिस ने पहली नजर में रंजिश का मामला बतायाकोच्चि एयरपोर्ट पर जांच जारीविमान पर आत्मघाती हमले का खतराएयर इंडिया की फ्लाइट पर फिदायीन हमसे का खतरामुंबई, अहमदाबाद, कोच्चि में हाई अलर्ट
किंगफिशर संकट से बढ़ा विमान किराया: सीसीआई
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:30-12-12 03:15 PM
Image Loading

संकटग्रस्त किंगफिशर एयरलाइंस द्वारा उड़ान रद्द किया जाना बढ़ते विमानन किराये की वजह हो सकता है, हालांकि अब तक विमानन कंपनियों के गुट बनाकर किराया बढ़ाने का कोई प्रमाण नहीं मिला है। यह बात भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने कही।

आयोग के चेयरमैन अशोक चावला ने कहा कि यदि गुट होता जो कि अक्सर बेइंतहा मुनाफा कमाने के लिए बनाया जाता है, तो विमानन कंपनियों को नुकसान नहीं हो रहा होता, लेकिन दरअसल बात यह है कि इनमें से कोई कंपनी मुनाफा नहीं कमा रही है, इसलिए कोई गुट नहीं बना है।

हालांकि गुट बनाकर हवाई किराया बढ़ाने से जुड़े संवेदनशील मामले की जांच कई बार हो चुकी है। इस संबंध में चावला ने कहा कि यदि कोई प्रतिस्पर्धा रोधी गतिविधि हो रही है तो वह इस मामले पर फिर से विचार करने के लिए तैयार हैं।

उन्होंने कहा कि मैं इसके बारे में कोई राय पहले से नहीं बनाना चाहता और यदि कोई ऐसा मामला आता है तो हम इस पर विचार करेंगे। फिलहाल गुट जैसी कोई चीज नहीं दिख रही है। इस संबंध में आयोग द्वारा की गई जांच संबंधी निष्कर्ष का ब्यौरा देते हुए चावला ने कहा कि विमान किराया कुछ साल पहले कम हुआ जबकि आपूर्ति पर्याप्त थी और मांग बढ़ रही थी।

उन्होंने कहा कि इसके बाद जब आपूर्ति नहीं बढ़ी, बल्कि आपूर्ति कम हुई क्योंकि एक विमानन कंपनी धीरे-धीरे निष्क्रिय हो गई तो मांग इसके हिसाब से कम नहीं हुई। वह इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि क्या किंगफिशर द्वारा उड़ान रद्द किए जाने से कीमत प्रभावित हुई हैं।

चावला ने कहा कि इस तरह कुछ साल पहले मांग और आपूर्ति में संयोजन था जिसके कारण कीमत कम हुई और मांग व आपूर्ति का संतुलन बिगड़ने के कारण किराया बढ़ रहा है।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ