रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 02:40 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
खाड़ी देशों में जा रहे हैं एयर इंडिया के पायलट
मुंबई, एजेंसी First Published:26-12-12 08:18 PM
Image Loading

मोटे वेतन तथा बेहतर कामकाजी हालात के चलते एयर इंडिया के पायलट खाड़ी देशों की विमानन कंपनियों की ओर आकर्षित हो रहे हैं। सूत्रों ने दावा करते हुए कहा कि खाड़ी देशों की विमानन कंपनियां एयर इंडिया की तुलना में 40 प्रतिशत अधिक वेतन की पेशकश करती हैं। यही कारण है कि पायलट उनके यहां नौकरी करने को तत्पर रहते हैं।

सूत्रों ने कहा कि बोइंग 777 विमानों के कई कमांडर बीते कुछ महीनों में पहले ही एयर इंडिया छोड़कर कतर एयरवेज, एतिहाद तथा एमिरेट्स जैसी कंपनियों में चले गये हैं। इसके अलावा अगले 2-3 महीने में 35 और पायलटों के इन कंपनियों में जाने की संभावना है। उन्होंने कहा कि इस तरह के पलायन से कमांडरों की भारी कमी हो सकती है।

एयर इंडिया के पास इस समय बोइंग 777 बेड़े के लिए लगभग 115 कमांडर हैं। इस बेड़े में 15 बोइंग 777-300 तथा आठ बी 777-200 विमान हैं। इसके अलावा लगभग 40 कार्यकारी पायलट भी कंपनी में हैं। कंपनी ने जिन 13 पायलटों को बर्खास्त किया था उनमें से पांच भी बी 777 कमांडर हैं।

पिछले रविवार को ही एयर इंडिया की मुंबई-रियाद उड़ान में 20 घंटे की देरी हुई। कंपनी का कहना है कि उड़ान चालक दल की कमी के कारण यह देरी हुई। सूत्रों का कहना है कि कतर एयरवेज तथा एतिहाद जैसी कंपनियां इन पायलटों को 7.50-8.30 लाख रुपये महीने के वेतन की पेशकश करती हैं। एयर इंडिया में यह राशि 4-6 लाख रुपये के बीच है।
 
 
 
टिप्पणियाँ