रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 06:36 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
GMR के खिलाफ हो सकती है कानूनी कार्रवाई
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:08-01-13 01:29 PM
Image Loading

जीएमआर इंफ्रास्ट्रक्चर ने किशनगढ़-उदयपुर-अहमदाबाद परियोजना से हाथ खींचने की घोषणा की है। वहीं भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने कहा कि वह फर्म के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने पर विचार कर सकता है।

जीएमआर इंफ्रा को इस परियोजना का ठेका 16 महीने पहले मिला था। परियोजना के लिए 5,387 करोड़ रुपये के निवेश की जरुरत होगी। कंपनी ने 26 साल के लिए 636 करोड़ रुपये सालाना प्रीमियम की पेशकश के साथ इस परियोजना का ठेका हासिल किया था।

एनएचएआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हम मामले की समीक्षा कर रहे हैं और विशेषज्ञों की राय के आधार पर कानूनी कार्रवाई कर सकते हैं। इस बीच जीएमआर इंफ्रास्ट्रक्चर ने कहा है कि उसने किशनगढ़-उदयपुर-अहमदाबाद राजमार्ग के निर्माण के लिए एनएचएआई के साथ अपने अनुबंध को समाप्त कर दिया है।

कंपनी ने बीएसई को सूचित किया है कि उसकी अनुषंगी जीमएआर किशनगंज-उदयपुर-अहमदाबाद एक्सप्रेसवे लिमिटेड ने एनएचएआई के साथ रियायती समझौते को रद्द कर दिया है। यह समझौता किशनगढ़-उदयपुर-अहमदाबाद राजमार्ग को छह लेन का करने के लिए किया गया था।

वहीं कंपनी सूत्रों का कहना है कि जीएमआर ने परियोजना में नियामकीय बाधाओं को देखते हुए यह फैसला किया है। इन बाधाओं में पर्यावरण संबंधी मंजूरियां हासिल करने में विलंब और भूमि अधिग्रहण को लेकर समस्याएं शामिल हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ