सोमवार, 24 नवम्बर, 2014 | 20:34 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शिवसेना ने कहा कि अगर बीमा विधेयक में कर्मचारियों और किसानों के हित के लिए संशोधन नहीं लाया गया तो वह इसका विरोध करेगी।श्रीलंका के राष्‍ट्रपति महिन्‍दा राजपक्षे मंगलवार को लुम्बिनी आएंगे। वह वहां पूर्वाह्न 11 बजे से एक बजे तक रहेंगे। महामाया मंदिर में पूजा अर्चना करेंगे।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ के बीच संभावित बैठक के बारे में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि कल तक इंतजार कीजिए।केंद्र के खिलाफ आरोप लगाकर आपराधिक मामलों में आरोपियों की मदद कर रही हैं ममता बनर्जी: केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू।
कच्चा तेल 110 डॉलर प्रति बैरल के नीचे
लंदन, एजेंसी First Published:28-11-12 06:37 PM
Image Loading

सबसे बड़े तेल उपभोक्ता अमेरिका में आर्थिक अनिश्चितता का माहौल बनने से बुधवार को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चा तेल गिरावट के साथ 110 डॉलर प्रति बैरल के नीचे आ गया।

लंदन में ब्रेंट क्रूड का वायदा 109.58 डॉलर प्रति औंस पर बोला गया, जबकि पिछले कारोबारी दिवस पर यह 111 डॉलर प्रति बैरल से भी ऊपर पहुंच गया था। अमेरिकी स्वीट क्रूड भी गिरकर 86.91 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया।

विश्लेषकों का कहना है कि अमेरिका में वित्तीय सख्ती को रोकने के उपायों पर सांसदों के बीच सहमति नहीं बन पाने से अनिश्चितता का माहौल बन रहा है। अमेरिकी सांसदों का एक बड़ा समूह अर्थव्यवस्था में गति को बनाए रखने के लिए करों की सीमा बढ़ाने और सरकारी खर्चों में कटौती के पक्ष में नहीं है, लेकिन अभी तक इसके विकल्प पर कोई सहमति नहीं बन पा रही है।

इसके अलावा यूरोपीय संकट को विश्व अर्थव्यवस्था के लिए सबसे बड़ा खतरा बताने वाली ओईसीडी की रिपोर्ट ने भी तेल कारोबारियों को निराश किया है। इसी वजह से तेल बाजार में आज गिरावट की धारणा बनी रही।

हालांकि पश्चिम एशिया के दो देशों मिस्र और सीरिया में व्याप्त अशांति ने कच्चे तेल के भावों को सहारा दिया हुआ है। दुनिया के प्रमुख तेल उत्पादक देशों में शुमार मिस्र और सीरिया में तनाव बने रहने से आपूर्ति संबंधी चिंताएं पैदा हो रही हैं।

 
 
 
टिप्पणियाँ