class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

OMG ! फोन हल्का नहीं अपनी जेब भारी करते हैं क्लीनिंग एप

OMG ! फोन हल्का नहीं अपनी जेब भारी करते हैं क्लीनिंग एप

फोन की परफोर्मेंस सुधारने का दावा करने वाली थर्ड पार्टी एप्लीकेशन डिवाइस के लिए हानिकारक होती हैं। यह दावा टेक्नोलॉजी जगत की जानी-मानी वेबसाइट एंड्रॉयडपिट डॉट कॉम ने किया है। वेबसाइट ने इन एप्लीकेशन को स्मार्टफोन से तुंरत डिलीट करने की राय भी दी है।

रैम को सेव करने का झूठा दावा
एप स्टोर पर कई थर्ड पार्टी रैम बूस्टर एप्लीकेशन उपलब्ध हैं। आम यूजर की नजर में ये चमत्कारिक हैं। लेकिन वास्तव में इस तरह के एप यूजर को धोखे में रखते हैं। ये एप्लीकेशन रैम को नियंत्रित करने की बजाए डिवाइस की इंटरनल मेमोरी और बैटरी लाइफ को नुकसान पहुंचाते हैं। ये एप पूरी तरह बंद होने के बाद भी बैकग्राउंड में चलते हैं जिससे फोन की स्पीड पर फर्क पड़ता है। यूजर शायद इस बात को नहीं जानते कि एंड्रॉयड डिवाइस में रैम ऑटोमेटिकली मैनेज होती है

क्लीन मास्टर एप के बहकावे में न आएं
क्लीन मास्टर जैसी थर्ड पार्टी एप्लीकेशन भी कोई भरोसेमंद एप नहीं है। यह एप कैशे फाइल को डिलीट कर फोन की परफोर्मेंस को सुधारती है। हालांकि इसका फोन में कोई खास महत्व नहीं है। कई बार तो खुद क्लीन मास्टर जैसे एप्लीकेशन फोन में कैशे फाइल्स को तेजी से बनाते हैं। यूजर चाहें तो फोन में मौजूद कैशे फाइल को मैनुअली भी डिलीट कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें फोन की ‘सेटिंग्स’ में जाकर ‘स्टोरेज’ पर क्लिक करना होगा। इसके बाद  मनचाहे एप को सिलेक्ट कर ‘कैशे डिलीट’ कर दें। इससे आपकी इंटरनल मेमोरी और बैटरी दोनों सुरक्षित रहेंगी।

बेवजह के एंटीवायरस डाउनलोड न करें
स्मार्टफोन को वायरस से बचाने के लिए थर्ड पार्टी एंटीवायरस एप्लीकेशन डाउनलोड करने की आवश्यक्ता नहीं है। एंड्रॉयड डिवाइस मैनेजर इसके बिना ही फोन को सुरक्षा प्रदान करता है। हालांकि फोन में एपीके फाइल डाउनलोड करते वक्त एंटीवायरस काम कर सकता है। लेकिन सेटिंग्स में मौजूद ‘अननोन सोर्स’ का विकल्प भी यूजर को एपीके फाइल डाउनलोड न करने की सलाह देता है। ऐसे में एंटीवायरस का फोन में कोई खास महत्व नहीं रह जाता।

बैटरी को नुकसान पहुंचा रहे बैटरी सेवर एप
रैम बूस्टर की तरह बैटरी सेवर एप भी बेवजह फोन की इंटरनल मेमोरी को भरते हैं। आपने गौर किया होगा बैटरी सेवर एप डाउनलोड करने के बाद फोन की होम स्क्रीन और टोगल्स बार पूरी तरह बदल जाता है। इसमें फोन पर भार डालने वाले कई तरह के एनिमेशन इफेक्ट भी शामिल होते हैं। दरअसल ये सब एक दिखावा है। बैटरी सेवर एप फोन की लाइफ को बढ़ाने की बजाए उसे तेजी से खत्म करना शुरू कर देते हैं। इस तरह के एप्लीकेशन से अपने स्मार्टफोन को हमेशा मुक्त रखें। फोन की बैटरी को सुरक्षित रखने के लिए रनिंग सर्विस या रनिंग एप को ध्यान में रखकर डिवाइस का इस्तेमाल करें। चार्जिंग मोड पर कम से कम गेम खेलें या कॉल करें। फोन की डिस्प्ले लाइट को आवश्यक्ता अनुसार ही बढ़ाएं।

आकर्षक लॉन्चर और विजेट्स से बचें
बजट स्मार्टफोन पर लग्जरी फीचर की मांग तेजी से बढ़ रही है। अच्छे स्पेसिफिकेशन जैसे कि फिंगरप्रिंट लॉक, फेस डिटेक्शन लॉक, म्यूजिक चेंजर शेक या ग्रेविटी फीचर यूजर को आकर्षित कर रहे हैं। कई बार बजट स्मार्टफोन में ये सब सुविधा न होने की वजह से यूजर कुछ खास लॉन्चर और विजेट्स का सहारा लेने लगते हैं। जबकि वास्तव में इस तरह के अधिकांश एप वादे के मुताबिक पर्याप्त सर्विस देने में असमर्थ हैं। ये एप फोन में अच्छे फीचर उपलब्ध कराने की बजाए इंटरनल मेमोरी, रैम, ग्राफिक और बैटरी को नुकसान पहुंचाते हैं। यूजर को हमेशा फोन में प्री इंस्टॉल्ड एप्लीकेशन, लॉन्चर और विजेट्स का ही इस्तेमाल करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:smartphone cleaning apps you should remove right now
From around the web