Image Loading bank officer on dharna - LiveHindustan.com
मंगलवार, 06 दिसम्बर, 2016 | 06:20 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • जयललिता का पार्थिव शरीर राजाजी हॉल पहुंचा। आज शाम चार बजे होगा अंतिम संस्कार।
  • तमिलानाडु: पन्नीरसेल्वम ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
  • पीएम मोदी ने जयललिता के निधन पर दुख जताया, कहा- देश की राजनीति में बड़ी क्षति
  • तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता का निधन

कर्जदार के घर धरना पर बैठ बकाया राशि मांग रहे बैंक अधिकारी

गया। सुजीत कुमार First Published:19-10-2016 08:49:42 PMLast Updated:19-10-2016 08:49:42 PM
कर्जदार के घर धरना पर बैठ बकाया राशि मांग रहे बैंक अधिकारी

बैंक ने कर्जदारों से लोन की राशि मांगने का अनोखा तरीका निकाला है। गांधीगिरी के जरिए वे लोन भुगतान करने की गुहार लगा रहे हैं। ऋण की राशि के लिए वे सीधे कर्जदार के घर के आगे धरना पर बैठकर लोन चुकता करने की मांग कर रहे हैं। यह नयी पहल मध्य बिहार ग्रामीण बैंक की गया शाखा (एपी कॉलोनी) ने की है।

बैंक मैनेजर से लेकर लोन रिकवरी अधिकारी तक धरना पर बैठे नजर आए। यह नजारा बुधवार को शहर के टिल्हा महावीर स्थान के पास दिखा। यहां लोन की राशि नहीं देने वाले राजेश कुमार के घर के बाहर बैंककर्मी धरना पर बैठे थे। शांतिपूर्ण तरीके से धरना के जरिए सांकेतिक रूप से लोन की राशि का भुगतान करने की अपील करते रहे।

मध्य बिहार ग्रामीण बैंक, गया शाखा के मैनेजर राजेश कुमार ने बताया कि 2010 में राजेश ने प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत बैंक से कर्ज लिया था। इस वक्त उस पर सात लाख 35 हजार बकाया है। नोटिस और लीगल नोटिस देने के बावजूद राजेश ने कर्ज की राशि बैंक को वापस नहीं की।

मैनेजर ने बताया कि राजेश के भाई का कहना है कि मिल के लिए कर्ज लिया गया था। लेकिन मिल नहीं चल सका और दिवालिया हो गया। इस कारण कर्ज की राशि नहीं लौटा सके। बैंक के असिस्टेंट मैनेजर खुर्शीद इब्राहिम, रिकवरी अफसर एस एस आलम, सुनील कुमार, दीपक कुमार आदि धरने पर बैठे थे।

34 लोगों पर बकाया है साढ़े तीन करोड़
बैंक मैनेजर राजेश कुमार ने बताया कि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत 151 लोगों ने लोन लिया था। किसी तरह 117 लोगों ने समझौता या अन्य तरीके से कर्ज के रुपए लौटाए। शेष 34 लोगों पर करीब साढ़े तीन करोड़ रुपए बतौर कर्ज हैं। सभी को लीगल नोटिस दी जा चुकी है। बावजूद राशि नहीं लौटा रहे हैं। इस कारण गिरफ्तारी आदि कार्रवाई से पहले धरना के जरिए शांतिपूर्ण तरीके से लोन की राशि कर्जदारों से मांग रहे हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: bank officer on dharna
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड