class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कटिहार में महज 1100 रुपये में की शादी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नोटबंदी को सही ठहराते हुए मनसाही चितौड़िया गड़ीघाट गांव निवासी एक पिता को अपनी बेटी की शादी समारोह की रश्म महज ग्यारह सौ रुपये में करनी पड़ी। गुरुवार को पहंुची शादी की बारात का स्वागत सिर्फ चाय और एक लड्डू देकर की गयी और शादी की पूरी रस्म एक घंटे में पूरी हुई और बारात दुल्हन लेकर विदा भी हो गयी। चितौड़िया के रहनेवाले योगेन्द्र सहनी की पुत्री सरस्वती कुमारी की शादी गांव के ही मंुशी सहनी के पुत्र राजा कुमार से तय हुआ था। मगर अचानक नोटबंदी के कारण उनकी शादी उतनी धूमधाम से नहीं हो पायी । मगर वे इसके लिए मायूस बिल्कुल नहीं थे। शादी तय समय अनुसार गुरुवार को सुबह हुई ताकि बिजली खर्च बच सके। शादी के लिए ना मड़वा बना और पंडाल बस आंगन में खुले आसमान के नीचे गोबर से जमीन की पो ताई कर कलश और अग्नि जलाकर शादी की फेरे पूरे किये गये। लड़की के कपड़े पर 350 रुपये लड़के के कपड़े पर 400 रुपये ,चाय सामग्री पर 150 रुपये जबकि लड्डू मिठाई पर दो सौ रुपये का खर्च

किये गये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:notebandi shadi mahaj 11 hundered me