class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुरक्षा ऐसी थी कि परिंदा भी पर न मार सके

विधिक जागरूकता शिविर, प्रशासन आपके द्वार, मेडिकल कैंप जैसे कार्यक्रम को लेकर बन्नु बगीचा से शृंगी ऋषि धाम तक पूरा क्षेत्र अभेद्य किले में तब्दील कर दिया गया था। सड़क से पुल पुलिया तक सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था।

डीएम, व्यवहार न्यायलय के न्यायधीश को लेकर क्षेत्र में बीएसएफ, सीआरपीएफ, संैप एवं एसटीएफ के जवान तैनात किया गया था । इसके अलावा मुख्य मार्ग में भी सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था। यही वजह था कि सुबह से ही लोगों में चहल पहल शुरू हो गया था। दिन के करीब 11:30 बजे डीएम सुनील कुमार ,पत्नी मीनू श्रीवास्तव,पिता हरिनारायण वर्मा,पुत्र बिक्रमादित्य जैसे ही शृंगी ऋषि धाम पहंुचे, जवानों की निगाहें चौकन्नी हो गई। शृंगी ऋषि धाम पहंुचते ही डीएम ने सपरिवार पूजा अर्चना की और इसके बाद नाव से मोरवे डेम का सैर किया। सैर के बाद आदिवासी समाज के लोगो से रूबरू होते हुए उनके दिल में जगह बनाने का भरपूर प्रयास किया। नक्सलियों के शरणस्थली मानें जानवाले शृंगी ऋषि धाम में सुरक्षा बलों की चौकसी बनते ही दिख र६ी थी। मौके पर एसपी अशोक कुमार,अभियान एसएसपी पवन कुमार उपाध्याय,एसडीओ अंजनी कुमार, चानन थानाध्यक्ष, दीपक कुमार आदि तमाम पदाधिकारी मौजूद थे।

मेडिकल कैम्प में सूर्यगढ़ा प्रखंड के 150 आदिवासी समाज के लोगो का नि:शुल्क जांच कर दवा दिया गया। सिविल सर्जन शशि भूषण प्रसाद के देख रेख में एड्स जागरूकता शिविर भी लगाया गया था। शिविर में आए लोगो को एड्स से बचाव की जानकारी दिया जा रहा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lakhisari chann block to dm and wife comining
From around the web