class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भागलपुर से देवघर के सीधी ट्रेन के बारे में बोर्ड ही लेगा फैसला

भागलपुर से देवघर के सीधी ट्रेन के बारे में बोर्ड ही लेगा फैसला

ईसीएस (इस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड) के लटमटिया कोलियरी से रेलवे को पर्याप्त मात्रा में कोयला मिलने में अभी कुछ और समय लगेगा। यह बात मालदा के डीआरएम मोहित कुमार सिन्हा, एनटीपीसी कहलगांव और ईसीएल के अधिकारियों के बीच शनिवार को बातचीत में सामने आई।

डीआरएम ने बताया कि दिसंबर 2016 में लटमटिया खादान में हुई दुर्घटना के बाद अभी मात्र दो से तीन रैक कोयला ही रोजाना मिल पा रहा है। जबकि दुर्घटना के पहले पांच रैक रोजाना मिल पाता था। यह कोयला कहलगांव स्थित एनटीपीसी को जाता है। इससे रेलवे को नुकसान भी हो रहा है। डीआरएम शनिवार शाम भागलपुर पहुंचे और ऑटोमेटिक लांड्री का निरीक्षण किया। उन्होंने एजेंसी एवं रेलवे के अधिकारियों से कहा कि कोई समस्या हो तो बताएं उसे दूर किया जाएगा। लेकिन यह काम अच्छा से चलना चाहिए। डीआरएम प्लेटफार्म एक के पश्चिमी छोर पर पहुंचे और वहां नि:शक्तों के साइकिल के लिए बनने वाले रास्ते और बनने वाले गार्डन के बारे में अधिकारियों को कुछ निर्देश दिए। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि जबतक एलएचबी के तीन रैक नहीं मिलेंगे तबतक विक्रमशिला में एलएचबी कोच नहीं भेजा जा सकेगा। वहीं भागलपुर से देवघर के सीधी ट्रेन के बारे में उन्होंने कहा कि इस संबंध में बोर्ड को ही फैसला लेना है। शाम को वह कहलगांव चले गए तथा रविवार को वह वहां से जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:drm inspected the station