class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जदयू विधायक मेवालाल की गिरफ्तारी के लिए पटना में ताबड़तोड़ छापेमारी

जदयू विधायक मेवालाल की गिरफ्तारी के लिए पटना में ताबड़तोड़ छापेमारी

बीएयू नियुक्ति घोटाले के आरोपी बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर के पूर्व कुलपति व जदयू विधायक डॉ. मेवालाल चौधरी की गिरफ्तारी के लिए शनिवार को एसआईटी टीम ने पटना के सरकारी आवास समेत कई ठिकानों पर छापेमारी की। सुबह से शाम तक चली छापेमारी में पुलिस को खाली हाथ लौटना पड़ा।

राजनीतिक आका के घर छिपे होने के कारण पुलिस को गिरफ्तारी में सफलता नहीं मिल रही है। मेवालाल की गिरफ्तारी के लिए पटना में दो दिनों से भागलपुर एसआईटी की टीम कैंप कर रही थी। शुक्रवार को भागलपुर एसएसपी मनोज कुमार और पटना एसएसपी मनु महराज के बीच मेवालाल की गिरफ्तारी के लिए गुपचुप तरीके से रणनीति तैयार की गई।

शनिवार को पटना पुलिस के सहयोग से एसआईटी टीम मेवालाल चौधरी के शास्त्रीनगर स्थित सरकारी आवास की घेराबंदी कर छापेमारी की। सरकारी आवास में करीब दो घंटों तक छापेमारी की गई। वहां पर मौजूद लोगों से पूछताछ की गई लेकिन सरकारी आवास में मेवालाल नहीं मिले।

उसके बाद पुलिस टीम मेवालाल के दो करीबी रिश्तेदारों के घर बुद्धा कालोनी और एग्जिविशन रोड स्थित आवास पर छापेमारी की गई। दोनों ठिकाने पर मेवालाल चौधरी का कुछ पता नहीं चला। इसके आलावे पटना के कुछ अन्य ठिकानों पर भी टोह लिया गया। सुबह से शाम तक की गई छापेमारी में पुलिस टीम को कोई सफलता नहीं मिली।

पुलिस टीम का कहना है डॉ. मेवालाल गिरफ्तारी के डर से पटना में ही ठिकाना बदल-बदल कर रह रहे हैं। बुद्धा कालोनी में रहने की पक्की सूचना थी लेकिन वहां भी सफलता नहीं मिली। सूत्रों का कहना है कि मेवालाल चौधरी अपने राजनीतिक आका के ठिकाने पर छिपे हैं जहां पुलिस को पहुंचने में परेशानी हो रही है।

मेवालाल चौधरी हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत मिलने का इंतजार कर रहे हैं। जमानत नहीं मिलने पर वह कोर्ट में सरेंडर करने की तैयारी में हैं। पुलिस के एक अधिकारी का कहना है कि पटना में मेवालाल की गिरफ्तारी के लिए जाल बिछाया गया है और सटीक सूचना मिलने पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BAU appointment scam: Raid in patna for arresting of mewalal chaudhary