class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धर्मकांटे और मिल कांटे में आ रहा 2.15 क्विंटल का फर्क

चीनी मिल में गन्ना घटतौली को लेकर किसानों ने हंगामा काटा। एक घंटा तौल बंद रही। मिल अधिकारियों के समझाने के बाद भी किसान गन्ना बेंचने को राजी नहीं थे।

क्षेत्र के बहेरा गांव निवासी किसान रघुवर दयाल ट्राली से गन्ना बेंचने गुरुवार की शाम स्थानीय चीनी मिल पहुंचे। वह अपनी ट्राली धर्मकांटे पर तुलाकर गए थे। धर्मकांटे पर उनकी ट्राली का वजन 111.50 क्विंटल बताया जा रहा था जबकि चीनी मिल के तौल कांटे पर ट्राली का वजन 109.35 क्विंटल आ रहा था। किसान मजदूर संघ के जिलाध्यक्ष श्रीकृष्ण वर्मा समेत तमाम लोग मौके पर पहुंच गए और हंगामा शुरू कर दिया जिससे तौल एक घंटा बंद हो गई। यूनिटहेड ओमपाल सिंह, समिति सचिव भूपेष राय समेत तमाम मिल अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। सभी की मौजूदगी में रघुवर दयाल की गन्ना ट्राली की तौल मिल के कांटे पर कराई गई फिर भी किसान मानने को तैयार नहीं हुए। किसानों का कहना था कि मिल के सभी इलेक्ट्रानिक कांटे सेट हैं। धर्मकांटे की ही तौल का माना जाए। रघुवर दयाल की ट्राली मिल परिसर में खड़ी करा तौल शुरू करा दी गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:difference of 2.15 quintals between Dharmkante and mill Kanta