class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिरफ्तारी के डर से घर छोड़कर भाग गए उपद्रवी

धार्मिक स्थल, सार्वजनिक जगह, चौराहा, तिराहा, चाय के होटल, गली-कूंचों में लगने वाली भीड़ पर अब पुलिस की नजर रहेगी। मंगलवार रात हुई घटना से शहर में दहशत फैल गई है। पथराव व आगजनी के मामले में नामजद उपद्रवी पुलिस के डर से घर छोड़कर भाग गए है। पुलिस लगातार उनकी तलाश में दबिशें दे रही है, लेकिन अभी तक कोई सफलता नहीं मिल पाई है।

रोडवेज की अनुबंधित बस का चालान करने के बाद टीएसआई आलोक मिश्रा ने होमगार्ड करनैल सिंह को बस लेकर पुलिस लाइन भेजा था। इस दौरान होमगार्ड से पुलिस लाइन गेट स्थित पहले से क्षतिग्रस्त धर्मस्थल के गेट पर बस से टक्कर लग गई थी। इसकारण धर्मस्थल का गेट टूट गया। धर्मस्थल का गेट टूटने की खबर से बवाल हो गया। उपद्रवियों ने पथराव कर दिया। बस में आग लगा दी। पुलिस ने छह उपद्रवियों को पकड़ लिया। उन्हें जेल भेज दिया। 38 नामजद व 200 अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया। बताया जा रहा है कि ज्यादातर उपद्रवियों की पुलिस ने पहचान कर ली है। पुलिस उपद्रवियों की धरपकड़ में जुट गई है। टीमों को गठित कर दिया गया है। दबिशें दी जा रही हैं, लेकिन कोई सफलता नहीं मिली है। उपद्रवी गिरफ्तारी के डर से घर छोड़कर भाग गए हैं। अधिकारियों का कहना है कि किसी भी सूरत में उपद्रवियों को बख्शा नहीं जाएगा। जल्द ही उनकी गिरफ्तारी कर जेल भेज दिया जाएगा।

गजेंद्र सिंह बने इंस्पेक्टर सदर

एसपी कृष्ण बहादुर सिंह ने धर्मस्थल का गेट टूटने के मामले में बरती लापरवाही को लेकर टीएसआई आलोक मिश्रा को निलंबित कर दिया था। वहीं, देररात डीआईजी आशुतोष कुमार के आदेश पर इंस्पेकटर सदर हरीश राजपूत को भी निलंबित कर दिया गया था। एसपी ने उनकी जगह पर अभी कुछ दिन पहले बरेली से आए गजेंद्र सिंह को थाना सदर बाजार का नया इंस्पेक्टर बनाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:accused are so far from police