class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनाव में ड्यूटी करने वाले सरकारी कर्मचारियों का देना होगा डाटा

आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कवायद अब और तेजी पकड़ने लगी है। चुनाव में ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों का डाटा चुनाव आयोग ने जिले के अधिकारियों से मांगा है। इसको लेकर युद्धस्तर पर काम शुरू हो गया है। चुनावी ड्यूटी करने वाले सरकारी कर्मचारी अमूमन बैलेट से वोट डालते हैं। कई बार ड्यूटी करने के कारण वे वोट डालने से वंचित रह जाते हैं। इस कारण मतदान का प्रतिशत भी कम हो जाता है। चुनाव आयोग चाहता है कि अधिक से अधिक लोग चुनाव में वोट डालें। कम से कम वे लोग तो डालें ही जो मतदान के लिए जागरूक करते हैं। इसी के तहत अब चुनाव आयोग ने उस सभी कर्मचारियों का डाटा जिला निर्वाचन अधिकारी से मांगा है।

जिले में करीब 16 हजार ऐसे कर्मचारी हैं जो सरकारी मुलाजिम हैं। इसमें से करीब नौ हजार तो संविदा पर काम करने वाले कर्मचारी हैं। वहीं ऐसे कर्मचारी और अधिकारी भी हैं, जिनका वोट तो अपने गृह जनपद में हैं, लेकिन वे काम पीलीभीत में करते हैं। चुनाव के दौरान वे अपने घ नहीं जा सकते, इसलिए यह सारी कवायद की जा रही है।

अगर सरकारी कर्मचारी की ड्यूटी उसी विधानसभा क्षेत्र में लग जाती है, जहां उसका वोट है तो उसे ईडीसी प्रमाण पत्र जारी किया जाएगा। इसे आरओ जारी करेंगे। इसके बाद वह कर्मचारी अपने मतदान केंद्र पर जाकर वोट डाल सकेगा। अगर ड्यूटी से अलग विधानसभा में वोट है तो बैलेट से वोट डाला जाएगा। --- यह मांगी जानकारी - नाम, पदनाम, तैनाती स्थल का नाम, गृह जिले का नाम, वोटर कार्ड नंबर, विधानसभा क्षेत्र संख्या, बूथ संख्या, वोटर सूची का क्रमांक, वोटर आईडी वर्तमान तैनाती से जारी है कि नहीं, बैंक का नाम, शाखा का नाम, खाता संख्या, आईएफएससी कोड। ---- दो जनवरी के बाद जाएगी नई सूची अभी सरकारी कर्मचारी का जिस बूथ पर और जिस क्रमांक पर नंबर वोटर सूची मेंे हैं, उसी आधार पर सूची तैयार की जा रही है। लेकिन दो जनवरी को जब नई मतदाता सूची जारी होगी तो यह दोनों ही बदल जाने की संभावना है। ऐसे में सूची फिर से संशोधित की जाएगी। इसमें बूथ संख्या और वोटर क्रमांक बदलकर फिर से भेजा जाएगा। ----बयानफोटो 13 : अजयकांत सैनी। सरकारी कर्मचारियों का डाटा बनने का काम शुरू हो गया है। इसमें किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं है। इंटरनेट पर जाकर चुनाव आयोग की साइट में सारी जानकारी मिल सकती है। इसमें सरकारी विभागों के अधिकारी लगा दिए गए हैं। काम तेजी से चल रहा है। अभी हमारे पास टाइम काफी है। समय से सूची भेज दी जाएगी। अजयकांत सैनी, एडीएम/सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी, पीलीभीत

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The duty of public servants in the election will give data