Image Loading The duty of public servants in the election will give data - Hindustan
सोमवार, 20 फरवरी, 2017 | 21:09 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • IPL-10: पुणे की कप्तानी से हटे धौनी तो 'ऐसे' छिड़ गया विवाद, पूरी खबर के लिए क्लिक करें
  • गाजियाबादः सीबीआई कोर्ट ने भोजपुर एनकाउंटर को ठहराया फर्जी, पूरी खबर के लिए...
  • इलाहाबाद के कोरांव में राहुल गांधी बोले, यूपी में रोजगार के अवसर बढ़ाए जाएंगे
  • उरई में बोले पीएम, बसपा का मतलब बहनजी संपत्ति पार्टी
  • अखिलेश यादव सरकार की समाजवादी पेंशन योजना को चुनौती देने वाली अपील पर सुनवाई से...
  • टूंडला रेल हासदा: दिल्ली-कानपुर शताब्दी एक्सप्रेस (12034) और लखनऊ-गोमती एक्सप्रेस...
  • आईपीएल 10: खिलाड़ियों की नीलामी शुरू, पंजाब ने इंग्लैंड के कैप्टन मॉर्गन को 2...
  • पानीदारों की बस्ती में न पान रहा, न पानी: बीच चुनाव में - शशि शेखर, क्लिक कर पढ़ें
  • आज के हिन्दुस्तान में पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का विशेष लेख: इन्फोसिस...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-एनसीआर, पटना और लखनऊ में बादल छाए रहने की संभावना, देहरादून...
  • आज का भविष्यफल: तुला राशि वालों को मित्रों का सहयोग मिलेगा, अन्य राशियों का हाल...
  • आज के हिन्दुस्तान का ई-पेपर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
  • हेल्थ टिप्स: इन 9 चीजों को खाने से चुटकियों में दूर होगी थकान, पूरी खबर पढ़ने के...
  • GOOD MORNING: कैश में दो लाख से अधिक के गहने खरीदने पर टैक्स लगेगा, शाहिद अफरीदी ने...

चुनाव में ड्यूटी करने वाले सरकारी कर्मचारियों का देना होगा डाटा

पीलीभीत। वरिष्ठ संवाददाता First Published:01-12-2016 10:38:41 PMLast Updated:01-12-2016 10:52:10 PM

आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कवायद अब और तेजी पकड़ने लगी है। चुनाव में ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों का डाटा चुनाव आयोग ने जिले के अधिकारियों से मांगा है। इसको लेकर युद्धस्तर पर काम शुरू हो गया है। चुनावी ड्यूटी करने वाले सरकारी कर्मचारी अमूमन बैलेट से वोट डालते हैं। कई बार ड्यूटी करने के कारण वे वोट डालने से वंचित रह जाते हैं। इस कारण मतदान का प्रतिशत भी कम हो जाता है। चुनाव आयोग चाहता है कि अधिक से अधिक लोग चुनाव में वोट डालें। कम से कम वे लोग तो डालें ही जो मतदान के लिए जागरूक करते हैं। इसी के तहत अब चुनाव आयोग ने उस सभी कर्मचारियों का डाटा जिला निर्वाचन अधिकारी से मांगा है।

जिले में करीब 16 हजार ऐसे कर्मचारी हैं जो सरकारी मुलाजिम हैं। इसमें से करीब नौ हजार तो संविदा पर काम करने वाले कर्मचारी हैं। वहीं ऐसे कर्मचारी और अधिकारी भी हैं, जिनका वोट तो अपने गृह जनपद में हैं, लेकिन वे काम पीलीभीत में करते हैं। चुनाव के दौरान वे अपने घ नहीं जा सकते, इसलिए यह सारी कवायद की जा रही है।

अगर सरकारी कर्मचारी की ड्यूटी उसी विधानसभा क्षेत्र में लग जाती है, जहां उसका वोट है तो उसे ईडीसी प्रमाण पत्र जारी किया जाएगा। इसे आरओ जारी करेंगे। इसके बाद वह कर्मचारी अपने मतदान केंद्र पर जाकर वोट डाल सकेगा। अगर ड्यूटी से अलग विधानसभा में वोट है तो बैलेट से वोट डाला जाएगा। --- यह मांगी जानकारी - नाम, पदनाम, तैनाती स्थल का नाम, गृह जिले का नाम, वोटर कार्ड नंबर, विधानसभा क्षेत्र संख्या, बूथ संख्या, वोटर सूची का क्रमांक, वोटर आईडी वर्तमान तैनाती से जारी है कि नहीं, बैंक का नाम, शाखा का नाम, खाता संख्या, आईएफएससी कोड। ---- दो जनवरी के बाद जाएगी नई सूची अभी सरकारी कर्मचारी का जिस बूथ पर और जिस क्रमांक पर नंबर वोटर सूची मेंे हैं, उसी आधार पर सूची तैयार की जा रही है। लेकिन दो जनवरी को जब नई मतदाता सूची जारी होगी तो यह दोनों ही बदल जाने की संभावना है। ऐसे में सूची फिर से संशोधित की जाएगी। इसमें बूथ संख्या और वोटर क्रमांक बदलकर फिर से भेजा जाएगा। ----बयानफोटो 13 : अजयकांत सैनी। सरकारी कर्मचारियों का डाटा बनने का काम शुरू हो गया है। इसमें किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं है। इंटरनेट पर जाकर चुनाव आयोग की साइट में सारी जानकारी मिल सकती है। इसमें सरकारी विभागों के अधिकारी लगा दिए गए हैं। काम तेजी से चल रहा है। अभी हमारे पास टाइम काफी है। समय से सूची भेज दी जाएगी। अजयकांत सैनी, एडीएम/सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी, पीलीभीत

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: The duty of public servants in the election will give data
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड