Image Loading Prom In The Hands And Promise Not To Take Dowry - LiveHindustan.com
शुक्रवार, 09 दिसम्बर, 2016 | 15:06 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • दिल्लीः एक्सिस बैंक के चांदनी चौक ब्रांच में 8 नवंबर से अब तक अलग-अलग खातों में 450...
  • पटना से दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस हुई रद। संपूर्ण क्रांति नियमित रूप...
  • INDvsENG 4th TEST: दूसरे दिन का टी-ब्रेक, भारत का स्कोर 62/1
  • नोटबंदी नीति की गोपनीयता पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब
  • INDvsENG: इंग्लैंड की पारी 400 रनों पर सिमटी, अश्विन ने छह और जडेजा ने लिए चार विकेट
  • अभी कितनी ट्रेनें देरी से चल रही हैं और कितनी हैं रद्द। ताजा हाल जानने के लिए...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा 9वां झटका, बॉल को अश्विन ने किया OUT
  • नोटबंदी भारत का सबसे बड़ा घोटाला है, सरकार चर्चा से घबरा रही हैः राहुल गांधी
  • नोटबंदी को लेकर विपक्ष के हंगामे के बाद लोकसभा की कार्यवाही 11.30 बजे तक के लिए...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा 8वां झटका, राशिद को जडेजा ने किया OUT
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा सातवां झटका, वोक्स को जडेजा ने किया OUT
  • सेना को विवाद में घसीटने से दुखी रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने प.बंगाल की...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा छठा झटका, स्टोक्स को अश्विन ने किया OUT
  • मौसम अलर्टः उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड। दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और...
  • मिथुन राशिवालों की तरक्की के मार्ग खुलेंगे, आय बढ़ेगी। क्या कहते हैं आपके...
  • ये TIPS आजमाएंगे तो तुरंत दूर होगी एसिडिटी, जानें ये 5 जरूरी बातें
  • घने कोहरे के कारण 67 ट्रेनें लेट, 30 ट्रेनों के समय में बदलाव और दो ट्रेनें रद्द की...
  • GOOD MORNING: अब कर्मचारियों को वेतन से PF कटवाना जरूरी नहीं होगा, देश-दुनिया की बड़ी...

शाहजहांपुर में जलसे में हाथ उठाकर दहेज न लेने का किया वादा

शाहजहांपुर, हिन्दुस्तान संवाद First Published:02-12-2016 12:18:44 PMLast Updated:02-12-2016 12:26:15 PM

मोहल्ला महमंद जंगला स्थित मदरसा दारुस्सवालिहीन में जलसा सीरतुन्नबी का आयोजन किया गया, जिसमें मुआशरे को नेक अमल करने की प्रेरणा दी गई। आखिर में मुल्क व कौम की तरक्की और कामयाबी के लिए दुआ मांगी।

दारुल उलूम देवबंद के मुबल्लिग-ए-इस्लाम व मुख्य वक्ता मौलाना मोहम्मद राशिद ने खिताब करते हुए कहा कि पैगम्बर-ए-इस्लाम ने फरमाया कि शादियां माल अस्बाब देखकर मत करो, बल्कि दीनदारी को देखो। उन्होंने कहा कि दहेज एक लानत है और इसे मांगो नहीं, क्योंकि इसमें खैर नहीं है। मौलाना राशिद ने कहा कि ईमानवालों की जिम्मेदारी है कि पैगम्बर-ए-इस्लाम की सुन्नतों को जिंदा रखें। हमें एक अल्लाह का मानने वाला बनना होगा और उसे राजी करने के लिए नमाजें पढ़ना होंगी। उन्होंने कहा कि तीन तलाक पर पाबंदी के जरिए हमारे मजहब पर निशाना साधा जा रहा है, जो सरासर गलत है। मौलाना राशिद ने जलसे में मौजूद लोगों से हाथ उठवाकर दहेज न लेने का वादा करवाया। प्रोफेसर सैयद नोमान, मौलाना अजीमुददीन कासमी, मुफती हुसैन ने भी ख्यालात का इजहार किया। इससे पहले जलसे का आगाज कारी आसिम ने तिलावते कुरआन-ए-पाक से किया। कारी मोहम्मद जुल्फिकार ने बारगाह-ए-रिसालत में नात का नजराना पेश किया। इस मौके पर मौलाना इमरान कासमी, प्रोफेसर सैयद मुर्शिद, सैयद इरशाद हसन, हाजी अबरार, शकीलुर्रहमान, हाजी मानूस, फजल, डॉ उमर सहित बड़ी तादाद में लोग मौजूद रहे।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Prom In The Hands And Promise Not To Take Dowry
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड