class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिला की हत्या करने में दस वर्ष की सजा

जनपद न्यायाधीश भूपेंद्र सहाय ने चार साल पहले एक व्यक्ति ने महिला के ऊपर केरोसिन डालकर जिंदा फूंकने देने के मामले में दोषी मानते हुए दस साल की सजा सुनाई। दस हजार रुपए के अर्थदंड से भी दंडित किया। अर्थदंड अदा न करने पर छह माह की अतिरिक्त जेल काटनी होगी। दसआरोपी जमानत पर था। जिन्हें न्यायिक अभिरक्षा लेकर जेल भेज दिया गया।

जसपुरा थाना क्षेत्र के नांदादेव गांव निवासी राजवीर सिंह ने 26 नवंबर 2012 को अदालत के आदेश पर रिपोर्ट दर्ज करायी थी कि उसकी पत्नी भूरी देवी को 31 अगस्त 2012 की अर्धरात्रि में गांव का दुकानदार कुलदीप उर्फ मतोला केरोसिन डालकर जिंदा फूंक दिया था। घटना की जानकारी राजवीर को फोन के जरिए मिली थी। घर पहुंचा तो जली अवस्था में पड़ी हुई थी।उसे आनन फानन में जिला अस्पताल लेकर लेकर आए जहां रास्ते में उसकी मौत हो गई। पुलिस ने मामले की विवेचना कर आरोप पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया। अभियोजन पक्ष की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता मनोज यादव, सहायक शासकीय अधिवक्ता मिस्किीन अली ने छह गवाह अदालत में परीक्षित करवाए। अभियोजन और बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं के दलीलों की सुनवाई करने के बाद पत्रावली में मौजूद साक्ष्यों का अवलोकन करने के बाद आरोपी कुलदीप उर्फ मतोला को 304 में दस साल की कठोर सजा सुनाई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ten-year sentence for killing woman