class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सद्बुद्धि, स्वास्थ्य, स्वच्छता का संदेश देने वाली हैं मां शीतला

सद्बुद्धि, स्वास्थ्य, स्वच्छता का संदेश देने वाली हैं मां शीतला

शीतला माता, मां दुर्गा का ही एक रूप हैं। शीतला माता की पूजा आराधना करने से चेचक, खसरा आदि रोगों का प्रकोप नहीं फैलता है। माता शीतला, बच्चों की रक्षक हैं तथा रोग दूर करती हैं। प्राचीन काल में चेचक की बीमारी महामारी के रूप में फैलती थी। उस समय ऋषियों ने देवी की उपासना एवं साफ-सफाई के विशेष महत्व को बताया।

उत्तर भारत में शीतलाष्टमी का त्योहार, बसौड़ा के नाम से प्रसिद्ध है। शीतलाष्टमी के एक दिन पूर्व माता को भोग लगाने के लिए बासी खाने का भोग बसौड़ा तैयार किया जाता है। अष्टमी के दिन बासी पदार्थ ही देवी मां को नैवेद्य के रूप में समर्पित किए जाते हैं। शीतलाष्टमी पर ठंडे और बासी व्यंजनों से माता शीतला को भोग लगाया जाता है। शीतला माता की पूजा के बाद पथवारी की पूजा की जाती है। 

इस दिन सिर नहीं धोते, सिलाई नहीं करते, सुई नहीं पिरोते, चक्की या चरखा नहीं चलाते हैं। शीतला माता की पूजा के दिन घर में चूल्हा नहीं जलता है। शीतला मां सद्बुद्धि, स्वास्थ्य, स्वच्छता का संदेश देने वाली देवी हैं। शीतला माता अपने हाथों में कलश, सूप, मार्जन (झाडू) तथा नीम के पत्ते धारण करती हैं।

हाथ में मार्जन होने का अर्थ है कि हम लोगों को भी सफाई के प्रति जागरूक होना चाहिए। कलश से तात्पर्य है कि स्वच्छता रहने पर ही स्वास्थ्य मिलता है। चेचक का रोगी व्यग्रता में वस्त्र उतार देता है। सूप से रोगी को हवा की जाती है, झाडू से चेचक के फोड़े फट जाते हैं। नीम के पत्ते फोड़ों को सड़ने नहीं देते। रोगी को ठंडा जल प्रिय होता है, यह कलश का महत्व है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ma sheetala is the protector of children