class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपना नजरिया बदलेंगे तो हर चीज स्वर्ग सी सुंदर लगेगी

अपना नजरिया बदलेंगे तो हर चीज स्वर्ग सी सुंदर लगेगी

एक आश्रम में एक महात्मा और दो शिष्य रहते थे। दोनों शिष्य महात्मा के कहे अनुसार भगवान का भजन और पूजन करते थे। आश्रम का सारा काम दोनों बड़े अच्छे से करते थे। लेकिन दोनों में से एक शिष्य हमेशा दुखी रहते था। जबकि दोनों के लिए स्थितियां और वातावरण समान थे। पहला हर छोटी बात पर दुखी हो जाता था वहीं दूसरा उस में खुशी ढ़ूढ लेता था।

कुछ समय बात तीनों की मृत्यु हो गई। तीनों स्वर्ग लोक पहुंचे। पहला शिष्य बहुत दुखी था वहीं दूसरा खुश था। दुखी शिष्य ने गुरुदेव से पूछा कि स्वर्ग में सुख और आनंद मिलता है लेकिन हम यहां भी दुखी है।  

तब महात्मा ने कहा कि भक्ति से स्वर्ग तो मिल जाता है लेकिन सुख-दुख हमारे मन की देन है। मन साफ हो तो नर्क में भी सुख है नी हों तो स्वर्ग में भी दुख हैं।

सुख-दुख हमारे नजरिये पर निर्भर करता है। इसलिए अपने नजरिए को बदलो और सुख देने वाले पहलु को देखो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:change your way of thinking everything will be good