class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक (शुक्रवार, 1 जनवरी 2010)

एक अपील और एक अनुमति। दो अलग-अलग दिशाओं से जैसे उम्मीदों की रोशनी झरी हो। रुचिका मामले में सीबीआई ने हरियाणा के पूर्व पुलिस अधिकारी एसपीएस राठौर की सजा बढ़ाने के लिए अपील का फैसला किया और उधर दिल्ली में सन् 84 के सिख विरोधी दंगा मामले में वरिष्ठ नेता सज्जन कुमार के खिलाफ चार्जशीट दायर करने को हरी झंडी दिखा दी गई। इंसाफ की तरफ विधायिका ने एक डग भरा और आशा के लाखों दीए जल गए। रसूख की घनी छाया में अत्याचार, अन्याय और भ्रष्टाचार की घनी धुंध पैदा हो गई है। आम आदमी की कराह-गुहार को ढंक लेने वाली यह धुंध अब छंटेगी। आने वाले दिनों से यह उम्मीद भी है और कामना भी।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो टूक (शुक्रवार, 1 जनवरी 2010)