class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पॉलिसी के इंतजार में खड़ी हैं सिटी बसें

कुंभ मेला में संचालित होने के लिए आयी सिटी बसों का मामला अधर में लटक गई है। सिटी बसों का संचालन कैसे होगा शासन से इसके लिए कोई पॉलिसी तय नहीं हो पा रही है। रोडवेज की कार्यशाला में 113 सिटी बसें आकर खड़ी हो गयी हैं, लेकिन इनका संचालन कैसे होगा यह किसी को पता नहीं है। कुंभ मेला में यात्रियों के लिए 120 सिटी बसों का संचालन किया जाना है।

कुंभ मेला की अधिसूचना जारी हो गयी किंतु रोडवेज विभाग की बसों का संचालन कैसे किया जायेगा। अधिकारियों की समझ में नहीं आ रहा है। रोडवेज विभाग के अधिकारी भी शासन से हरी झंडी मिलने का इंतजार कर रहे हैं। कुंभ मेला का पहला स्नान 13 जनवरी को है। कुंभ नगरी में अभी से यात्रियों का आवागमन शुरू हो गया है, लेकिन रोडवेज विभाग की सिटी बसें सड़कों पर नहीं निकल पा रही हैं। सिटी बसों का अभी तक रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाया है। सूत्रों का कहना है कि सिटी बसों के रजिस्ट्रेशन में भी पेंच फंसा हुआ है।

कुंभ मेला निपट जाने के बाद 60 गाड़ियां देहरादून को जानी है। इसलिए इनका रजिस्ट्रेशन हरिद्वार में होगा या देहरादून में अभी किसी को पता नहीं चल पा रहा है। रोडवेज विभाग का अभी से यह हाल है तो मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को किस प्रकार सुलभ यातायात मिलेगा इस पर प्रश्नचिह्न् लग रहा है। सिटी बसों का संचालन पहले नगर पालिका के जिम्मे सौंपा गया था। नगर पालिका ने सिटी बसों को संचालित करने से साफ मना कर दिया। सिटी बसों के संचालन का मामला अब रोडवेज विभाग के पास है। रोडवेज विभाग को शासन अभी तक कोई निर्देश नहीं दे सका है।

रोडवेज संचालन महाप्रबंधक दीप जैन का कहना है कि सिटी बसों के संचालन के लिए शासन से प्राधिकरण का गठन किया जाना है। सिटी बसों के संचालन के लिए शासन स्तर पर कार्रवाई चल रही है। जल्द ही इनका संचालन शुरू हो जायेगा।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पॉलिसी के इंतजार में खड़ी हैं सिटी बसें