class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रेशम विभाग में भी मनरेगा के होगे कार्य

उत्तर प्रदेश के रेशम एवं वस्त्रोद्योग मंत्री जगदीश नारायण राय ने कहा कि देश में उत्तर प्रदेश एक ऐसा राज्य है जहां रेशम विभाग को महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) में शामिल किया गया है।
 राय ने कल शाम यहां से 45 किमी दूर रुधौली बाजार में संवाददाताओं से कहा कि अब राज्य में मनरेगा के तहत रेशम विभाग के लिए वृक्षारोपण एवं अन्य कार्य कराए जाएंगे। इससे रेशम एवं वस्त्रोद्योग विभाग को राष्ट्रीय पहचान मिलेगी।

 
उन्होंने कहा कि सरकार रेशम उद्योग को बढावा देने के लिए कई महत्वाकांक्षी योजनाएं बना रही है जिसके तहत राज्य में रेशम उत्पादकों को काफी सहुलियतें मिलेंगी। उन्होंने कहा कि अभी तक राज्य में रेशम विभाग का बजट तीन करोड़ रुपए था किन्तु आगामी वित्त वर्ष के लिए विधानसभा में रेशम विभाग के लिए 25 करोड़ का बजट पेश होगा। सम विकास योजना के तहत भी रेशम और वस्त्रोद्योग विभाग को शामिल किया गया है इससे भी रेशम उत्पादकों को लाभ मिलेगा।
 
एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मायावती ने अलग पूर्वांचल और अन्य राज्यों के गठन के लिए केन्द्र सरकार को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी सदैव छोटे राज्यों की पक्षधर रही है। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल सहित अन्य राज्यों के बन जाने से यहां का विकास और तेजी से होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रेशम विभाग में भी मनरेगा के होगे कार्य