class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फ्यूज सीएफएल बेकार नहीं, मिलेंगे दो रूपये

अगर आपके पास फ्यूज सीएफएल हैं तो उन्हें फेंकिये नहीं। राज्य सरकार आपको प्रति सीएफएल दो रूपये देगी। पर्यावरण विभाग के वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव जी. प्रसन्ना कुमार ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सीएफएल बल्ब का पारा यदि पानी में मिल जाए तो वह स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह हो सकता है ।

राज्य सरकार ने फ्यूज सीएफएल इक्कट्ठे करने के लिए हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम को अधिकृत किया हुआ है। एक सीएफएल देने पर दो रूपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

प्रधान सचिव जी प्रसन्ना ने  अस्पतालों से निकलने वाले बायो-मेडिकल कचरे के निष्पादन के बारे में भी चर्चा की। प्रदेश में 7 सर्विस प्रोवाइडर नियुक्त हैं। कुमार ने उपायुक्तों से कहा कि वे अपने जिलों में एक समिति बनाकर समय-समय पर यह चेक करवाएं कि अस्पताल का बायो-मेडिकल कचरा ठीक ढंग से निष्पादित हो रहा है। सचिव ने सभी डीसी से कहा कि वे भी अपने जिलों में एक ग्रीन स्कूल तैयार करें।

उन्होंने बताया कि प्रशिक्षित व्यक्तियों को सर्विस प्रोवाइडर के तौर पर नियुक्त करने के लिए विज्ञापन दिया हुआ है। 14 जनवरी तक सर्विस प्रोवाइडरों से आवेदन मांगे गए हैं। स्कूली बच्चों के 250 इको-क्लब कार्यरत हैं। प्रत्येक क्लब को भारत सरकार द्वारा 2500 रुपए की वित्तीय सहायता दी जा रही है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फ्यूज सीएफएल बेकार नहीं, मिलेंगे दो रूपये